Saturday , 26 September 2020

अगर जो बिडेन बने अमेरिका के राष्ट्रपति तो भारतीयों को देंगे ये बड़ा तोहफा

वाशिंगटन . अमेरिका में डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बिडेन ने कहा है कि यदि वह नवंबर में राष्ट्रपति चुनाव जीतते हैं,तब वहां भारतीय आईटी पेशेवरों के बीच सबसे अधिक लोकप्रिय एच-1बी वीजा पर लागू अस्थायी निलंबन को खत्म कर देने वाले है. ट्रंप प्रशासन ने 23 जून को भारतीय आईटी पेशेवरों को बड़ा झटका देकर एच-1बी वीजा और अन्य विदेशी कार्य वीजा को 2020 के अंत तक निलंबित कर दिया था. चुनावी साल में अमेरिकी श्रमिकों की सुरक्षा के लिए ऐसा किया गया. बिडेन ने एशियाई अमेरिकी और प्रशांत द्वीप समूह के लोगों (एएपीआई) के मुद्दों पर आयोजित एक डिजिटल टाउन हॉल बैठक में एच-1बी वीजा धारकों के योगदान की प्रशंसा की. बिडेन ने कहा, उन्होंने (अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप) इस साल के बाकी समय में एच-1बी वीजा को समाप्त कर दिया. ऐसा मेरे प्रशासन में नहीं होगा. उन्होंने एक सवाल के जवाब में यह बात कही. बिडेन ने कहा,कंपनी वीजा पर आए लोगों ने इस देश का निर्माण किया है.’’ ए-1बी वीजा एक गैर-आप्रवासी वीजा है, जो अमेरिकी कंपनियों को विशेष व्यवसायों में विदेशी कर्मचारियों को नियुक्त करने की इजाजत देता है, जिनके लिए सैद्धांतिक या तकनीकी विशेषज्ञता की जररूत होती है.

इस वीजा के जरिए प्रौद्योगिकी कंपनियां भारत और चीन जैसे देशों से हर साल दसियों हजार कर्मचारियों की भर्ती करती हैं. उन्होंने कहा,पहले दिन (कार्यकाल के) मैं 1.1 करोड़ दस्तावेजरहित अप्रवासियों की नागरिकता की राह आसान करने के लिए कांग्रेस में विधायी आव्रजन सुधार विधेयक भेजने जा रहा हूं. इन लोगों ने इस देश के लिए बहुत अधिक योगदान किया है,जिसमें एएपीआई समुदाय के 17 लाख लोग शामिल हैं. उन्होंने कहा,मेरी आव्रजन नीति परिवारों को एक साथ रखने के लिए बनाई गई है. हमारी आव्रजन प्रणाली के आधार स्तंभों के रूप में परिवार,एकीकरण और विविधता हैं, जिन्हें ध्यान में रखकर आव्रजन प्रणाली का आधुनिकीकरण किया गया है. उन्होंने आरोप लगाया कि ट्रंप की आव्रजन नीतियां क्रूर और अमानवीय हैं. बिडेन ने कहा कि वह सपने देखने वालों की सुरक्षा के लिए तत्काल कार्रवाई होगी, जिसमें पूर्व और दक्षिण एशिया के एक लाख से अधिक योग्य लोग शामिल हैं. पूर्व उपराष्ट्रपति ने यह भी कहा कि वह मुस्लिम यात्रा प्रतिबंध को रद्द करने का निर्णय भी लेंगे.

Please share this news