हिन्दुस्तान जिंक कोरोना महामारी के खिलाफ जंग में सरकार के साथ अग्रणी


जिला प्रशासन के साथ साथ ग्रामीण समुदाय को उपलब्ध करा रहा मदद

उदयपुर (Udaipur). कोराना महामारी (Epidemic) के खिलाफ जंग में हिन्दुस्तान जिं़ंक केंद्र और राज्य सरकारों के साथ अग्रणी भूमिका निभा रहा है. राजस्थान के 5 जिलों उदयपुर (Udaipur), राजसमंद, भीलवाड़ा, चित्तौडगढ़ और अजमेंर सहित उत्तराखंड के पंतनगर में हिन्दुस्तान जिं़क द्वारा अपने संयत्र के जिलों और आस पास, विशेष कर ग्रामीण क्षेत्रों में राजकीय अधिकारियों के साथ उनके दिशा निर्देशों और जरूरत के अनुसार राहत कार्य किया जा रहा है. कोरोना महामारी (Epidemic) के देश में पांव पसारने के साथ ही जिं़क प्रबंधन के वरिष्ठ अधिकरियों एवं इकाइयों के एसबीयू निदेशकों ने प्रशासन के साथ सक्रिय सहभागिता निभाते हुए हर संभव सहायता पहुंचाना प्रारंभ कर दिया जो कि अनवरत जारी है. इस संयुक्त प्रतिबद्धता और कार्य के तहत् कर्मचारियों और परिवारों को सुरक्षित रखने के साथ ही उनके स्वास्थ्य सुनिश्चित कर उन्हें भी सामुदायिक कार्य हेतु प्रेरित किया गया जिससे ग्रामीण क्षेत्र एवं दैनिक जीविकोपार्जन पर आधारित मजदूरों को सहायता मिल सकें.

  पाक उच्चायोग के दो अफसर कर रहे थे जासूसी

राजस्थान एवं पंतनगर के 189 गांवो में अपने सामाजिक उत्तरदायित्व हेतु सहयोगी संस्थाओं के माध्यम से प्रशासन एवं स्थानिय जनप्रतिनिधियों सरपंच, उपसरपंच, वार्डपंच एवं अन्य के साथ मिलकर 25 हजार परिवारों तक सुखी खाद्य सामग्री पहुंचाने, स्वयं सहायता समूह की सखी महिलाओं द्वारा निर्मित 1 लाख से अधिक मास्क, 50 हजार मास्क विभिन्न स्रोतो से, नियमित रूप से गांवो मंे हाइपोक्लोराइट का छिड़काव एवं फॉगिंग, सैनेटाइजर उपलब्ध कराने के साथ ही समुदायों को कोरोना (Corona virus) से बचाव के लिए जागरूक किया जा रहा है. सभी गांवों में स्माईल ऑन व्हील्स के माध्यम से लॉकडाउन (Lockdown) से पूर्व जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया.

  विदेश मंत्रालय में कोरोना वायरस की दस्तक

जिला स्तर पर सामान्य चिकित्सालयों एवं हिन्दुस्तान जिं़क के अस्पतालों को चिकित्सा उपकरण और पीपीई सहायता, पीपीई निर्माण हेतु प्रौद्योगिकी उपकरण, प्रशासन को 46 हजार से अधिक कपडे के मास्क, आवश्यकतानुसार खाद्य एवं अन्य राहत सामगी उपलब्ध कराए गये है. हिन्दुस्तान जिं़क द्वारा इस प्रयास से ग्राम पंचायत, जिला प्रशासन, पुलिस (Police), सामुदायिक कार्यकर्ता, आशा एवं आगंनवाडी कार्यकताओं को इसका लाभ मिला है. करीब 36 से अधिक गावों में जहां कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा स्वयं पहंुच कर कोरोना (Corona virus) से बचाव हेतु आवश्यक कदम एवं सुरक्षित रहने हेतु जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किये गये है वहीं अन्य गांवों में सीएसआर के माध्यम से यह संदेश पहुंचाया जा रहा है.

  जून में 4-5 रुपये प्रति लीटर महंगा हो सकता है पेट्रोल : डीजल

हिन्दुस्तान जिं़क की खुशी -नंदघर परियोजना के तहत् सहयोगी भागीदारों के माध्यम से यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि इसके संचालन क्षेत्रों में काई भी बच्चा भूखा न रहे. 6 जिलों सहित जावर माइंस जैसे पहाडी एवं दुर्गम क्षेत्र में गांवो में नियमित हाइपोक्लोराइट का छिडकाव एवं खाद्य सामग्री की उपलब्धता सुनिश्चित की जा रही है वहीं देबारी, आगूंचा, चंदेरिया, कायड, रेलमगरा जैसे ग्रामीण क्षेत्र में कोरोना महामारी (Epidemic) से बचाव हेतु आवश्यक संसाधन सुनिश्चित किये जा रहे है.

Please share this news