संक्रमण की रोकथाम में जनता का सहयोग जरूरी, भीलवाड़ा-झुंझुनूं व विदेश से उदयपुर लौटे व्यक्ति जानकारी दें

उदयपुर (Udaipur). जिले में कोरोना (Corona virus) के संक्रमण से बचाव के उद्देश्य से जिला प्रशासन द्वारा पूरी सतर्कता बरती जा रही है. उदयपुर (Udaipur) जिले में अब तक लिए गए 25 सेंपल में से कोई भी व्यक्ति पोजीटिव नहीं पाया गया है. चंूकि भीलवाड़ा, झुंझुनू और विदेशों में इसके पोजीटिव केस सामने आए है ऐसे में इन स्थानों पर जाकर जो भी व्यक्ति लौटा है उसे वहां जाकर आने की सूचना जिला नियंत्रण कक्ष के दूरभाष पर उपलब्ध करानी जरूरी है. सूचना देने पर ही इस वायरस का संक्रमण रोका जा सकता है.

यह विचार मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. दिनेशचंद्र खराड़ी ने शुक्रवार (Friday) को अपने कार्यालय में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कही.
उन्होंने बताया कि जिले में कोरोना (Corona virus) के संक्रमण से बचाव के एहतियाती उपायों को सुनिश्चित करने की दृष्टि से यह जरूरी है कि जो भी व्यक्ति इस माह में भीलवाड़ा, झुंझुनूं व विदेश की यात्रा करने के बाद उदयपुर (Udaipur) लौटे वह कोरोना (Corona virus) की रोकथाम व शिकायतों के लिए स्थापित किए गए नियंत्रण कक्ष के दूरभाष नंबर 0294-2414620 पर सूचित करें. उन्होंने स्पष्ट किया कि चाहे उन व्यक्तियों में सर्दी, जुकाम और बुखार के लक्षण हो या न हो परंतु ऐहतियात के तौर पर वे अपनी यात्रा के बारे में नियंत्रण कक्ष को अपने पते और मोबाईल नंबर के साथ अवगत करावें.

  उदयपुर से बिहार के लिए रवाना हुई प्रवासियों की ट्रेन

अफवाहों से बचें:

खराड़ी ने कहा कि लोगों को अफवाहों से बचने की आवश्यकता है और इस दृष्टि से जिला प्रशासन द्वारा भी ऐसे लोगों पर नज़र रखी जा रही है जो इस संबंध में अफवाहें फैलाते हुए समाज में डर पैदा कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि गत दिनों में अफवाह फैलाने वाले व्यक्तियों को चिह्नीत करते हुए पुलिस (Police) कार्यवाही की गई है. उन्होंने अनावश्यक रूप से बाजारों में खरीदारी नहीं करने और घर में भंडारण नहीं करने की बात कही.

  विचार-मंथन / घरेलू हिंसा का दायरा : सिद्धार्थ शंकर

घर में रहें, सतर्कता बरतें:

खराड़ी ने कहा कि इस वायरस के संक्रमण से बचने का एकमात्र उपाय किसी अन्य व्यक्ति के संपर्क में नहीं आना ही है. उन्होंने सलाह दी है कि सभी लोग घर में ही रहें और जहां तक हो बुजुर्ग लोग तो घर से बाहर नहीं निकलें ताकि संक्रमण से बचे रहे. उन्होंने मास्क पहनने के स्थान पर बार-बार साबुन से हाथ धोने की सलाह दी और कहा कि जो व्यक्ति वास्तव में सर्दी-खांसी से पीडि़त है उसे ही मास्क पहनने की आवश्यकता है. वह व्यक्ति मास्क के स्थान पर हाथ रूमाल भी उपयोग में ला सकता है और उसे अच्छी तरह धोकर दोबारा उपयोग कर सकता है.

  दिल्ली कोविड-19 समर्पित सिग्नस ऑर्थोकेयर अस्पताल में लगी आग

जागरूकता जरूरी: शुभमंगला

प्रेस वार्ता को प्रशिक्षु आईएएस टी. शुभमंगला ने भी संबोधित किया और कहा कि लोगों को इस वायरस के बारे में पैनिक होने की जरूरत नहीं है. उन्होंने जागरूकता से ही इसके संक्रमण से बचाव होने की बात कही और बताया कि प्रशासन पूरे प्रयास कर रहा है. इसी प्रकार राज्य स्तर से पहुंचे प्रभारी अधिकारी डॉ. खन्ना ने बताया कि इस वायरस के स्टेज तीन में पहुंचने से बचाव की दृष्टि से सबसे अच्छा उपाय घर से बाहर नहीं निकलना ही है.

Please share this news