Wednesday , 28 October 2020

गहलोत सरकार ने कनिष्ठ सहायकों के पद में की बढ़ोतरी, वंचित 603 अभ्यर्थी होंगे लाभांवित


जयपुर (jaipur) . राजस्थान (Rajasthan) की अशोक गेहलोत सरकार (Government) ने कोरोनाकाल में प्रदेश के युवाओं के हित में फैसला करते हुए अच्छा अहम निर्णय लिया है. इसके चलते जूनियर असिस्टेंट पद में चयन से वंचित रहे युवाओं को एक बार फिर अपनी किस्मत आजमाने का मौका मिल गया है. दरअसल राज्य सरकार (Government) की ओर से कनिष्ठ सहायक भर्ती परीक्षा-2018 में चयन से वंचित अभ्यर्थियों के लिए 603 अतिरिक्त पदों का सृजन किए जाने का फैसला किया है.

सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने प्रस्ताव को मंजूरी दी है. मालूम हो कि प्रदेश में राजनैतिक संकट दूर होने के बाद से लगातार सीएम गहलोत विभिन्न विभागों की समीक्षा बैठक ले रहे हैं. बीते दिनों कार्मिक विभाग की भी एक बैठक सीएम गहलोत ने ली थी, इसी दौरान उनके सामने यह मामला संज्ञान में आया था. लिहाजा इस पर मंथन के बाद उन्होंने चयन से वंचित पात्र अभ्यर्थियों को चयनित कर नियुक्ति देने के निर्देश दिए थे.

जानकारी के अनुसार क्रमवार पदों को सृजित करने की मंजूरी दी गई है. इनमें सामान्य वर्ग के 345, ओबीसी के 223 तथा एसटी के 35 पद शामिल हैं. आपको बता दें कि अब तक गैर अनुसूचित क्षेत्र के 10,763 रिक्त पदों के विरुद्ध 10,688, अनुसूचित क्षेत्र के 1278 रिक्त पदों के विरुद्ध 722 यानी कुल 11,410 अभ्यर्थियों को नियुक्ति दी जा चुकी है. मिली जानकारी के अनुसार इस भर्ती की संशोधित अर्थना में विज्ञापित पदों में से सामान्य, ओबीसी व एसटी वर्गों के पदों की कमी कर दी गई थी. राजस्थान (Rajasthan) कर्मचारी चयन बोर्ड ने इसके अनुसार नतीजे जारी कर आवेदन पत्रों का सत्यापन भी करा लिया था. आपको बता दें कि हाल ही कुछ दिनों पहले मीटिंग के दौरान सीएम गहलोत यह निर्देश दे चुके हैं सभी भर्ती समय पर ही हो.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *