(कम्युनिकेशन्स टेक्नोलॉजी में अगला कदम) 1 – अनुभवों की एक नई दुनिया की डगर

 

 

कम्युनिकेशन सिस्टम की अगली पीढ़ी की नई परिभाषा

 

सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स 5जी का व्यावसायिक इस्तेमाल करने वाली शुरुआती कंपनियों में थी. अब कंपनी 6जी के लिए शोध तेज करने जा रही है ताकि भविष्य में हमें जीवन के हरेक क्षेत्र में एकदम नए और हाइपर-कनेक्टेड अनुभव हासिल हो सकें.

 

वायरलेस कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी या तकनीक केवल वॉयस कॉल वाले पहली पीढ़ी के एनालॉग कम्युनिकेशन से शुरू होकर आज के तूफानी रफ्तार वाले 5जी तक पहुंची है और इस तकनीक में एक के बाद एक पीढ़ियां अब और भी तेजी से आ रही हैं.

 

सोल नेशनल यूनिवर्सिटी में इलेक्ट्रिकल और कंप्यूटर इंजीनियरिंग के प्रोफेसर रह चुके संगह्युन चोई से कम्युनिकेशन्स टेक्नोलॉजी को परिभाषित करने के लिए कहा गया. चोई ने कहा, “ऐसी टेक्नोलॉजी जो लोगों और वस्तुओं, स्थानों आदि को वास्तविक तथा वर्चुअल क्षेत्र में जुड़ने और मिलकर काम करने के लिए जरूरी बुनियादी ढांचा मुहैया करा सके.“ चोई का यह भी कहना था, “यह ज्यादा स्मार्ट युग की बुनियाद डालेगी, जिसमें कृत्रिम मेधा यानी आर्टिफिशल इंटेलिजेंस (एआई) और रोबॉट हमारी जिंदगी का आम हिस्सा बन जाएंगे.”

 

आज कम्युनिकेशन्स टेक्नोलॉजी लोगों को ही नहीं बल्कि उपकरणों और बाकी सब को भी एक साथ जोड़ती है. साथ ही यह लगातार बेहतर होती जा रही है, जिससे सामग्री और विचारों का आदान-प्रदान नए तथा आकर्षक तरीकों से करने में मदद मिलती है. चोई ने समझाया, “पिछली पीढ़ियों के मुकाबले आज की कम्युनिकेशन्स टेक्नोलॉजी कम वक्त में ज्यादा डेटा पर काम कर सकती है. नेटवर्क उपकरण भी बेहतर होते जा रहे हैं और तकनीक के इस रुझान की ज्यादा जटिल जरूरतों को पूरा करने लायक हैं.” कुल मिलाकर उद्योग ऑटोमेशन की तरफ बढ़ रहा है, जो उन्नत कम्युनिकेशन्स टेक्नोलॉजी की जटिलताओं और उनके कामकाज के हिसाब से खुद को ढाल सकता है तथा सेवा की गुणवत्ता बढ़ा सकता है.

 

चोई ने कहा, “कम्युनिकेशन्स टेक्नोलॉजी अब सूचनाओं के आदान-प्रदान से कहीं आगे जा चुकी है. अब इस टेक्नोलॉजी का विकास यह ध्यान में रखकर किया जा रहा है कि यह किस तरह का काम कर सकती है और कैसी सेवाएं दे सकती है.”

  राम मंदिर के भूमि पूजन में उपयोग होगी आठ हजार स्थानों की मिट्टी

 

नई पहल (इनोवेशन) का संकल्प

20 गीगाबिट प्रति सेकंड की रफ्तार (यानी अल्ट्रा-हाई-स्पीड), 1 मिलीसेकंड की एयर लेटेंसी (अल्ट्रा-लो लेटेंसी) और 99.999 प्रतिशत भरोसेमंद (अल्ट्रा-रिलायबिलिटी) के साथ 5जी युग में लगभग सब कुछ “अल्ट्रा” लगने लगा है. कह सकते हैं कि अब हम वायरलेस कम्युनिकेशन्स टेक्नोलॉजी के विकास की बात नहीं बल्कि “अल्ट्रा” अनुभवों की एकदम नई दुनिया शुरू होने की बात कर रहे हैं.

 

 

हमारे नजरिये में इस बदलाव के लिए सबसे ज्यादा शुक्रिया उद्योगों, शिक्षा जगत और शोध संस्थानों के बीच गठजोड़ को किया जाना चाहिए. 5जी को व्यावसायिक जामा पहनाकर और इंटरनेशनल टेलीककम्युनिकेशन यूनियन के साथ हाथ मिलाकर सैमसंग ने “अल्ट्रा” अनुभवों के इस नए जमाने को परिभाषित करने वाले पैमाने तैयार करने में बड़ी भूमिका निभाई है.

 

चोई ने कहा, “सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स ने हमेशा भविष्य पर नजर रखकर नई ईजाद की हैं और अगली पीढ़ी के लिए तैयारी करती रही है. अब हमें वायरलेस कम्युनिकेशन्स टेक्नोलॉजी में लंबे अरसे तक किए अपने निवेश के नतीजे दिख रहे हैं. हम स्मार्टफोन बाजार के अगुआ केवल इसीलिए नहीं बने हैं क्योंकि हमो पास स्मार्टफोन, नेटवर्क उपकरण और सेमीकंडक्टर चिपसेट समेत कम्युनिकेशन्स टेक्नोलॉजी का पूरा जखीरा मौजूद है बल्कि हम अगुआ इसलिए हैं क्योंकि हमने बाजार को हरेक कोने से देखा है.”

 

 

सैमसंग रिसर्च के एडवांस्ड कम्युनिकेशन्स रिसर्च सेंटर में हम वायरलेस कम्युनिकेशन्स टेक्नोलॉजी का साहसिक और नया भविष्य गढ़ने के लिए लगातार काम कर रहे हैं. चोई ने बताया कि सेंटर इसे हासिल करने के लिए अपनी वैश्विक क्षमताएं बढ़ा रहा है. उन्होंने कहा, “दुनिया भर में हमारे शोध केंद्र प्रमुख कोर टेक्नोलॉजी विकसित करने और उन्हें मानक बनाने के लिए अपनी-अपनी विशेषज्ञता का इस्तेमाल कर रहे हैं.”

 

चोई ने बताया कि कम्युनिकेशन्स तकनीकों के विकास में सबसे आगे बने रहने के लिए सैमसंग को क्या करना चाहिए. उन्होंने कहा, “कंपनी को प्रतिभाओं को बढ़ावा देना जारी रखना चाहिए और कम्युनिकेशन्स तकनीक की अगली पीढ़ी तैयार करने के लिए दूर तक की योजना बनानी चाहिए.”

  राष्ट्रपति द्वारा शहीद के पिता की याचिका पर समुचित कार्यवाही का आश्वासन

5जी से आगे

आज 5जी का इस्तेमाल तमाम उद्योगों के मुख्य बुनियादी में हो रहा है और उच्च गुणवत्ता वाली संचार सेवाओं से लेकर स्मार्ट कारखानों, वाहनों के बीच संचार और कई अन्य सेवाओं में भी यह काम कर रही है. चोई ने बताया कि इस तकनीक को अगले स्तर पर ले जाने के लिए भविष्य में कितने अधिक शोध और विकास की जरूरत पड़ेगी.

 

चोई ने समझाया कि कम्युनिकेशन्स टेक्नोलॉजी के सामने इस समय मौजूद कुछ तकनीकी चुनौतियों से पार पाने का रास्ता सॉफ्टवेयर की क्षमता बढ़ाने और एआई को उन्नत बनाने से मिलेगा. भविष्य के नेटवर्क्स के लिए ऐसी क्षमताओं की दरकार होगी, जो भारी मात्रा में जानकारी को प्रोसेस कर सकें यानी और भी ताकतकवर नेटवर्क उपकरणों की जरूरत होगी. साथ ही उपकरणों को अधिक लचीला और किफायती बनाने वाले सॉफ्टवेयर की अहमियत भी बढ़ती जाएगी. इतना ही नहीं दूर तक की सोच के साथ 6जी के लिए बुनियादी तकनीकें तैयार करना तथा वैश्विक मानकीकरण को बढ़ावा देना भी जरूरी है.

 

वायरलेस कम्युनिकेशन्स के नए युग में कदम रखने के लिए सैमसंग के प्रयासों की अधिक जानकारी कंपनी के आधिकारिक 6जी व्हाइट पेपर में मिल सकती है, जो आज जारी किया जा रहा है. व्हाइट पेपर में 6 जी से जुड़े विभिन्न पहलुओं पर बात की गई है, जिनमें तकनीक और समाज के प्रमुख रुझान, नई सेवाएं, जरूरतें, संभावित तकनीकें और मानकीकरण की अपेक्षित समयसीमा शामिल हैं.

 

नामुमकिन बनेगा मुमकिन

संचार उद्योग किसी भी दूसरे उद्योग के मुकाबले तेजी से बढ़ रहा है और इस तकनीक के भविष्य को परिभाषित करने की जबरदस्त होड़ है. लेकिन चोई की सलाह है कि इस क्षेत्र में शोधकर्ताओं को होड़ पर नहीं बल्कि दीर्घकालिक लक्ष्य पर ध्यान देना चाहिए. उन्होंने ध्यान दिलाया कि हमारी जिंदगी बदलने वाली कई संचार तकनीकों को व्यावसायिक बनाने में कई दशक लग गए थे. उन्होंने कहा, “इसीलिए दूर तक की सोचकर शोध करना जरूरी है.”

  रिया पर सवाल से भड़के पुलिस कमिश्नर, बोले- प्रेस कॉन्फ्रेंस खत्म, बंद करो कैमरा

 

उन्होंने कहा, “इस समय हम ऐसी तकनीक पर शोध कर रहे हैं, जिसे अमल में लाना इस समय मुश्किल लग सकता है मगर आगे चलकर इसमें ढेरों संभावनाएं हो सकती हैं. खास तौर पर ऐसी सेवाओं पर ध्यान देकर, जिन पर अभी काम ही नहीं हुआ है और जिन्हें सैमसंग ही दे सकती है, हम लगातार ऐसी सेवाओं के बारे में सोच रहे हैं, जिसकी लोगों को भविष्य में जरूरत हो सकती है. वायरलेस कम्युनिकेशन्स टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में वैश्विक अगुआ होने के नाते हम मानवता की प्रगति में योगदान करने वाली तकनीक बनाते रहेंगे.”

 

चोई इस क्षेत्र में 30 वर्ष से भी ज्यादा काम कर चुके हैं और पिछले 17 वर्ष उन्होंने शिक्षा में कम्युनिकेशन्स तकनीक को बढ़ाने में लगाए हैं. चोई आज भी इस तकनीक पर उतने ही मुग्ध रहते हैं, जितने पहले थे. सैमसंग रिसर्च में अपनी ही तरह जुनून वाले विशेषज्ञों के साथ काम करके वह खुश हैं और विश्व स्तर की इस टीम में प्रतिभाओं को बढ़ावा देने के अपने संकल्प पर कायम भी हैं. उनका संकल्प है कि दुनिया के सर्वश्रेष्ठ इंजीनियरों में शुमार अपने टीम सदस्यों को आगे बढ़ाने में वह हमेशा मदद करते रहेंगे.

 

चोई ने कहा कि अगले 10 वर्ष खास तौर पर अद्भुत होंगे क्योंकि हम “ऐसी दुनिया शुरू होते देखेंगे, जहां नामुमकिन भी मुमकिन हो जाएगा.”

 

चोई ने कहा, “आगे चलकर संचार तकनीक का भविष्य सभी के लिए अगला हाइपर-कनेक्टेड अनुभव पेश करने की उसकी क्षमता से तय होगा. उद्योग में सर्वश्रेष्ठ बनने की हमारी तमन्ना है और हमारे विश्व स्तर के इंजीनियर ऐसी दुनिया गढ़ने की कोशिश करते रहेंगे, जहां नामुमकिन भी मुमकिन बन जाए.”

 

 

Please share this news