क्या सिर्फ मास्क पहनाकर जापान ने कोरोना को हरा दिया


टोक्यो . जापान में कोविड-19 (Covid-19) के ताजा आंकड़े देखकर तो अब तक कुल सक्रिय केस 16,804 हैं, जबकि 886 मौतें हुई हैं. ध्यान देने की बात यह है कि 14,406 लोग रिकवर हो चुके हैं, यानी जापान में सक्रिय केसों की संख्या ढाई हजार से भी कम है. कोरोना से बचाव के लिए मास्क पहने जाने की आदत का जहां अमेरिका के नेता मजाक उड़ाते रहे, वहीं जापान में इस एक आदत ने जंग जीतने में बड़ी भूमिका निभाई.

  इन्दौर बाजार भाव : शक्कर मजबूती पर

बीते सोमवार (Monday) को जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने देश से आपातकाल हटकर आर्थिक व सामाजिक गतिविधियां धीरे-धीरे शुरू किए जाने की घोषणा की. हालांकि जापान में बलपूर्वक लॉकडाउन (Lockdown) की स्थिति नहीं रही लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग का पूरे देश ने कड़ाई से पालन किया.

एक्सपर्ट पैनल के उपाध्यक्ष और महामारी (Epidemic) विशेषज्ञ के मुताबिक लिखा गया है कि जापानियों ने वैश्विक महामारी (Epidemic) को काबू रखने में सफलता इसलिए हासिल की क्योंकि लोगों ने सेहत के प्रति खासी सतर्कता दिखाई. यानी बचाव और सावधानियों का पूरा ध्यान रखा. हाथ धोने से लेकर लोक स्वच्छता तक हर निर्देश का पालन किया गया.

  एयर फिल्टर जो हवा में ही मार देता है कोरोना वायरस

विशेषज्ञों के मुताबिक जापान में संक्रमण के अपेक्षाकृत कम फैलने के पीछे बड़ा कारण जापानियों का रोज़मर्रा के जीवन में मास्क लगातार पहने रखने की आदत रही. कहा गया है चूंकि जापान में कई लोगों को पराग से एलर्जी है इसलिए साल की शुरूआत से ही बसंत या बहार के मौसम तक लोग इसतरह के भी मास्क पहनते हैं. साथ ही, इन्फ्लुएंज़ा से बचाव के लिए भी कुछ लोग रोजमर्रा में मास्क पहनते रहे हैं.

Please share this news