पालघर में संतों की ह्त्या की सीबीआई जाँच की मांग


मुंबई (Mumbai) . बंबई उच्च न्यायालय में एक जनहित में याचिका दायर कर पालघर में दो संतों सहित तीन लोगों की पीट-पीटकर हत्या (Murder) किए जाने के मामले की जांच CBIजैसी किसी स्वतंत्र एजेंसी को सौंपने या इसके लिए विशेष जांच दल (एसआईटी) गठित करने की मांग की गई है.

वकील अलख आलोक श्रीवास्तव द्वारा दायर याचिका में यह भी मांग की गई है कि उच्च न्यायालय जांच की निगरानी करे और जांच एजेंसी से समय-समय पर रिपोर्ट मांगे. जनहित याचिका (पीआईएल) में यह भी मांग की गई है कि इस मामले में तेजी लाई जाए और कार चालक के परिवार को वित्तीय मुआवजा प्रदान किया जाए, जो उन तीन व्यक्तियों में शामिल थे, जिनकी भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या (Murder) कर दी थी.

  जून में रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा यूपीआई से भुगतान, अप्रैल में लाकडाउन के कारण आई थी गिरावट

यह घटना 16 अप्रैल की रात को हुई जब तीन लोग- दो संत और उनके चालक, एक अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए मुंबई (Mumbai) से एक कार से गुजरात के सूरत (Surat) की ओर जा रहे थे. उनकी गाड़ी को पालघर जिले के एक गांव के पास रोक दिया गया जहां बच्चा चोर होने के शक में तीनों को कार से खींचकर बाहर निकाला गया और भीड़ ने तीनों की डंडे से पीट-पीटकर हत्या (Murder) कर दी.मृतकों की पहचान चिकने महाराज कल्पवृक्षगिरि (70), सुशीलगिरि महाराज (35) और चालक नीलेश तेलगड़े (30) के रूप में की गई. के लिए पालघर के दो पुलिस (Police) कर्मियों को निलंबित भी किया है.

Please share this news