कोर्ट ने खारिज की क्रिश्चियन मिशेल की याचिका, कोरोना के आधार पर मांगी थी बेल

नई दिल्ली (New Delhi) . अगस्ता वेस्टलैंड मामले में जेल में बंद क्रिश्चियन मिशेल की अर्जी को दिल्ली हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया है. उसने कोरोना के आधार पर अंतरिम जमानत अर्जी दाखिल की थी. इस अर्जी पर दलील सुनने के बाद हाईकोर्ट ने कल यानी सोमवार (Monday) को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया गया था. क्रिश्चियन मिशेल के वकील अल्जो के जोसेफ की ओर से लगाई गई याचिका में कहा गया था कि याचिकाकर्ता 59 साल का है और बीमार है. उसकी उम्र और बीमारी उसे कोरोना संक्रमण के लिए दूसरे कैदियों की तुलना में अधिक संवेदनशील बना रही है. इस वजह से उसे भीड़-भाड़ वाले जेलों में रखना उचित नहीं है. ऐसे में उसे जमानत दे दी जाए.

  गुरुग्राम में कोरोना संक्रमण हो रहा बेकाबू

इस मामले में 26 मार्च को क्रिश्चियन मिशेल ने दिल्ली हाई कोर्ट में अर्जी दाखिल की, लेकिन सुनवाई नहीं होने पर वह सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) पहुंच गया. इस पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) की जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली बेंच ने दिल्ली हाई कोर्ट को मिशेल की याचिका पर सुनवाई करने का निर्देश दिया था. इसके बाद दिल्ली हाई कोर्ट ने सोमवार (Monday) को मिशेल की जमानत याचिका पर सुनवाई की.

  लगातार दूसरे दिन बढ़त के साथ बंद हुआ शेयर बाजार

अपनी याचिका में क्रिश्चियन मिशेल ने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) के हालिया फैसले में जेल में कैदियों की संख्या कम करने के लिए विचाराधीन और दोषी कैदियों को पेरोल पर रिहा करने का निर्देश दिया गया था. वह गिरफ्तारी के दिन से न्यायिक हिरासत में है. पूरी कार्यवाही के दौरान वह सम्मानजनक और विनम्रता से पेश हुआ है. इसलिए उसे जमानत दी जाए.

Please share this news