पूर्वी लद्दाख में सैनिकों की पूरी तरह से वापसी करेंगे चीन-भारत


नई दिल्ली (New Delhi) . भारत और चीन ने पूर्वी लद्दाख में सैनिकों की पूरी तरह से पीछे हटने पर सहमति जताई है. विदेश मंत्रालय के अनुसार, भारत-चीन सीमा मामलों पर परामर्श और समन्वय के लिए कार्य तंत्र के ढांचे के तहत यह बातचीत हुई.

मंत्रालय ने बताया कि दोनों पक्षों ने द्विपक्षीय समझौतों तथा प्रोटोकॉल के अनुरूप सीमावर्ती क्षेत्रों में अमन-चैन पूरी तरह बहाल करने के लिए वास्तविक नियंत्रण रेखा के आसपास सैनिकों के पूरी तरह पीछे हटने की बात दोहराई. विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘‘उन्होंने इस बात पर भी सहमति जताई कि द्विपक्षीय संबंधों के समग्र विकास के लिए सीमावर्ती क्षेत्रों में दीर्घकालिक अमन-चैन बनाए रखना जरूरी है.”

  रूस में बड़े पैमाने पर कोरोना टीकाकरण की चल रही तैयारी, वैक्सीन भी जल्द लांच करेगा

ऑनलाइन संवाद में भारतीय पक्ष की अगुवाई विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव (पूर्वी एशिया) ने की, वहीं चीनी पक्ष का नेतृत्व चीन के विदेश मंत्रालय में सीमा और समुद्री विभाग के महानिदेशक ने किया. मंत्रालय ने कहा, ‘‘उन्होंने भारत-चीन सीमावर्ती क्षेत्रों में हालात की समीक्षा की जिसमें पश्चिमी क्षेत्र में एलएसी पर जारी सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया की प्रगति की समीक्षा भी शामिल है.” मंत्रालय के अनुसार दोनों पक्षों ने सहमति जताई कि वरिष्ठ कमांडरों के बीच हुई सहमतियों को गंभीरता से लागू करने की जरूरत है.

Please share this news