चीन ने महाशक्ति बनने के लिए फैलाया वायरस


नई दिल्ली (New Delhi) . लंदन की इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ ज्यूरिस्ट (आईसीजे) ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद से अपील की है कि गंभीर अपराध करने के लिए चीन पर कड़ा जुर्माना लगे. संगठन ने आरोप लगाया है कि कोरोना (Corona virus) महामारी (Epidemic) प्राथमिक रूप से बीजिंग का षड्यंत्र है ताकि वह खुद को महाशक्ति बना सके. आईसीजे के अध्यक्ष आदिश सी.अग्रवाल का कहना है कि वायरस को फैलने से रोकने के लिए चीन द्वारा कार्रवाई नहीं करने से पूरी दुनिया में मंदी आ गई और खरबों डॉलर (Dollar) का नुकसान हुआ है तथा भारत एवं दुनिया के अन्य हिस्सों में लाखों लोग बेरोजगार हो गए.

  लाकडाउन के कारण नहीं कराया बेटे की मौत पर मृत्‍युभोज, पंचायत ने किया समाज से बेदखल

उन्होंने कहा कि यह रहस्य कि वायरस चीन के सभी प्रांतों में कैसे नहीं फैला जबकि दुनिया के सभी देशों में फैल गया है. उन्होंने जिनेवा स्थित मानवाधिकार संगठन से अपील की कि वायरस फैलने के लिए वह चीन, उसकी सेना और वुहान को जिम्मेदार ठहराए, जिससे पूरी दुनिया में 50 हजार से अधिक की मौत हो गई और दुनिया ठप हो गई. अग्रवाल ने यूएनएचआरसी से मांग की वह चीन को निर्देश दे कि बीमारी फैलाने के लिए वह पूरी दुनिया व खासकर भारत को क्षतिपूर्ति दे.

Please share this news