ब्रांड एनआईपीईआर की चमक फिर बढ़ी: फार्मा श्रेणी में उच्च शिक्षा के शीर्ष दस संस्थानों में अपनी जगह बनाई

National Institute of Pharmaceutical Education & Research
नई दिल्ली (New Delhi) . रसायन और उर्वरक मंत्रालय में फार्मास्युटिकल विभाग के तत्वावधान में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मास्यूटिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (एनआईपीईआर) ने फार्मा श्रेणी में उच्च शिक्षा के शीर्ष दस संस्थानों में अपनी जगह बनाई है.यह सफलता स्पष्ट रूप से फार्मास्यूटिकल्स और चिकित्सा उपकरणों के क्षेत्र में शिक्षा,अनुसंधान और नवाचार में उनके बेहतर प्रदर्शन और प्रतिबद्धताओं को रेखांकित करता है. इस नवीनतम रैंकिंग ने निश्चित रूप से ”ब्रांड नाईपर” की शान बढ़ा दी है.

  आनुवांशिक विज्ञान भारतीयों में टाइप-1 मधुमेह के निदान में मदद कर सकता है

केंद्रीय रसायन और उर्वरक मंत्री डी.वी.सदानंद गौड़ा और राज्यमंत्री (रसायन और उर्वरक) मनसुख मांडविया ने एनआईपीईआर के सभी संकायों और छात्रों को इस सफलता को प्राप्त करने के लिए किए गए अथक प्रयासों के लिए बधाई दी है. केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने विभिन्न श्रेणियों में पांच व्यापक मापदंडों पर उनके प्रदर्शन के आधार पर विभिन्न श्रेणियों में उच्च शैक्षणिक संस्थानों की “इंडिया रैंकिंग 2020” जारी की है.

  हांगकांग में अमेरिकी राजनयिक ने सुरक्षा कानून के इस्तेमाल को ‘त्रासदी’ बताया

फार्मा श्रेणी में एनआईपीईआर के पास घोषित रैंकिंग को लेकर खुश होने की कई वजह हैं. देश भर के सात एनआईपीईआर में से एसएएस नगर (मोहाली) ने अपना तीसरा स्थान बरकरार रखा है,जबकि हैदराबाद और अहमदाबाद (Ahmedabad) स्थित एनआईपीईआर ने पिछले वर्ष की तुलना में इस साल एक रैंक में सुधार किया है और उन्हें देश में क्रमशः पांचवां और आठवां स्थान हासिल हुआ है.

  राजस्थान के कई इलाकों में बारिश, गर्मी और उमस से राहत

इस साल की रैंकिंग में गुवाहाटी,रायबरेली और कोलकाता (Kolkata) स्थित तीन अन्य एनआईपीईआर ने उल्लेखनीय प्रदर्शन किया है, जो पहली बार रैंकिंग में शामिल हुए और अपने लिए क्रमश: 11वां,18वां और 27वां स्थान हासिल किया. इस वार्षिक रैंकिंग के तहत विभिन्न विश्वविद्यालयों, महाविद्यालयों,चिकित्सा,दंत चिकित्सा,कानून, वास्तुकला,इंजीनियरिंग,प्रबंधन और फार्मेसी संस्थानों को राष्ट्रीय स्तर पर रैंक प्रदान किये गए.

Please share this news