Monday , 28 September 2020

भीमा कोरेगांव एल्‍गार परिषद हिंसा मामले में दिल्‍ली विवि के प्रोफेसर गिरफ्तार


नई दिल्ली (New Delhi) . महाराष्‍ट्र के भीमा कोरेगांव एल्‍गार परिषद हिंसा मामले में राष्‍ट्रीय जांच एजेंसी एनआईए ने दिल्‍ली विश्विधालय में अंग्रेजी के एक असोसिएट प्रफेसर को गिरफ्तार किया है. 54 साल के हनी बाबू मुसलियारवीत्तिल तरयिल दिल्‍ली से सटे नोएडा (Noida) में रहते हैं. इस मामले में एनआईए पहले भी कई लोगों को गिरफ्तार कर पूछताछ कर रही है.

इससे पहले भीमा कोरेगांव से जुड़े मामले में दिल्ली हाई कोर्ट ने एनआईए को नोटिस भेजा है. यह नोटिस गौतम नवलखा की जमानत अर्जी के बाद भेजा गया है. नवलखा ने मेडिकल ग्राउंड पर बेल की मांग की है. नवलखा फिलहाल दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद हैं. गौतम नवलखा ने इसी साल अप्रैल में राष्ट्रीय जांच एजेंसी के सामने आत्मसमर्पण किया था.मुंबई (Mumbai) से निकलने वाले इकनॉमिक ऐंड पॉलिटिकल वीकली जर्नल के संपादक नवलखा उन पांच मानवाधिकार कायकर्ताओं में से एक हैं जिन्हें माओवादियों के साथ कथित संबंधों और भीमा कोरेगांव हिंसा में उनकी कथित संलिप्तता को लेकर गिरफ्तार किया गया था.

भीमा कोरेगांव हिंसा की जांच कर रहे कमीशन ने राष्ट्रवादी कांग्रेस के अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद पवार से भी इस साल अप्रैल में इस केस से जुड़े कई बिंदुओं पर पूछताछ की थी. पुणे के पास भीमा कोरेगांव इलाके में हुई हिंसा की जांच के लिए बने इस जांच आयोग का गठन 1 जनवरी 2018 को किया गया था. जस्टिस जे.एन. पटेल आयोग के अध्यक्ष और सुमित मुलिक आयोग के सदस्य हैं. 5 सितंबर 2018 से इस आयोग ने काम शुरू किया था.

Please share this news