बैंकों के असहयोग से ऋण लाभ लेने में बाधा : किरण माहेश्वरी

पूर्व उच्च शिक्षा मंत्री एवं विधायक किरण माहेश्वरी ने कहा कि कोरोना आपदा के बाद की परिस्थितियों में बैंको को अपनी कार्य प्रणाली में परिवर्तन करना होगा. केन्द्र सरकार (Government) के स्पष्ट दिशा निर्देशों के बाद भी बैंक (Bank) मुद्रा योजना और ठेला चालकरेहड़ी एवं पटरी पर व्यवसाय करने वालों को ऋण देने में आनाकानी कर रहे है. बैंको का यह व्यवहार स्वीकार्य नहीं है. वे भाजपा राजसमंद की जिला कार्यकारिणी को संबोधित कर रही थी.

किरण माहेश्वरी ने कहा कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना की घोषणा महाबंदी के अगले दिन ही करके लाखों व्यक्तियों को भुखमरी से बचाया गया. राज्य सरकार (Government) की अनदेखी के कारण किसान सम्मान निधि के लिए सभी किसानों के समंक केन्द्र सरकार (Government) को नहीं भेजे गए है. इस कारण राज्य के कई किसानों को सम्मान निधि का लाभ नहीं मिल पा रहा है. राज्य सरकार (Government) सम्मान निधि से वंचित किसानों की सूची शीघ्र केन्द्र सरकार को भिजवाऐं.

किरण माहेश्वरी ने चना उत्पादकों की समस्या उठाते हुए कहा कि बड़ी संख्या में किसान समर्थन मूल्यों पर चना नहीं बेच पाए है. राज्य सरकार अन्य जिलों में लक्ष्य अधिशेष रहने पर उसे राजसमंद जिले को आवंटित करें. विद्युत बिलों में स्थायी प्रभार से छुट एवं विलम्ब शुल्क नहीं लगाने के लिए भाजपा प्रत्येक स्तर पर दबाव बनाऐगी.

किरण माहेश्वरी ने प्रधानमंत्री ई विद्या पहल का स्वागत करते हुए कहा कि इससे दूूरस्थ एवं ग्रामीण क्षेत्रों के युवा भी अखिल भारतीय स्तर के प्रतिष्ठित संस्थानों से ऑनलाइन डिग्री पाठ्यक्रम कर सकेगें. भाजपा कार्यकर्ता इसका अधिकाधिक प्रचार करें. राजस्थान (Rajasthan) सरकार (Government) वित्तीय कुप्रबंधन के कारण राहत कार्यों में कोई योगदान नहीं दे पाई है. भाजपा मुख्यमंत्री (Chief Minister) द्वारा प्रतिदिन केन्द्र सरकार (Government) पर मिथ्या आरोप लगाने की निंदा करती है. राजस्थान (Rajasthan) से प्रवासी श्रमिकों के भेजने के बारे में मुख्यमंत्री (Chief Minister) प्रतिदिन टिकट कट रहे है. किन्तु इन बसों एवं रेलगाडियों का सारा व्यय संबंधित राज्य सरकारें उठा रही है. इसमें राजस्थान (Rajasthan) सरकार (Government) का कोई योगदान नहीं है. 

Please share this news
  कोरोना का कहर : वल्लभनगर SDM ने कोरोना प्रभावित क्षेत्र में लगाई निषेधाज्ञा