काक्रोच और धूल से बचे अस्थमा एलर्जी के मरीज, दोनों कारक है अस्थमा एलर्जी के बडे कारक


नई दिल्ली (New Delhi) . पांच साल की रिपोर्ट के विश्लेषण के आधार पर एक डायग्नोस्टिक सेंटर ने पाया है कि काक्रोच और धूल एलर्जिक अस्थमा का सबसे बड़ा कारण हैं. परीक्षण किए गए रोगियों में से 60 प्रतिशत में विभिन्न प्रकार की धूल और गंदगी से भरे कॉकरोच के कारण एलर्जी और अस्थमा जैसी बीमारी थी. सीनियर पल्मोनोलॉजिस्ट डॉ. सी विजय कुमार ने कहा कि कॉकरोच जल निकासी की जगहों, सीवरेज और उन जगहों पर घूमते हैं, जहां गंदगी होती है. वे एलर्जी पैदा करने वाले कारकों को अपने साथ ले आते हैं.

  गुजरात में 412 नए केसों के साथ कोरोना का आंकड़ा पहुंचा 16356 पर

इससे उस व्यक्ति पर असर पड़ता है जो अस्थमा से पीड़ित होता है और यह एक ट्रिगर के रूप में कार्य कर सकता है. एलर्जी की रिएक्शन हल्के से गंभीर तक हो सकती है और अस्थमा से बचने का सबसे कारगर तरीका है कि ऐसी चीजों से बचा जाए. वरिष्ठ शोधकर्ता डॉ. बीआर दास ने कहा कि कई एलर्जी अस्थमा का कारण बन सकता है या अस्थमा की स्थिति को और खराब कर सकता है.

  सड़क पर दूध गिरकर गौ पालकों ने किया ममता सरकार का विरोध

एलर्जी टेस्टिंग बीमारी के ट्रिगर को समझने के लिए की जाती है और इसे पहचानना काफी महत्वपूर्ण है. धूल में छिपे हुए कीट-पतंगे और कॉकरोच एलर्जी से होने वाले अस्थमा के सबसे आम कारणों में से एक हैं. साक्ष्य अब बताते हैं कि 90 लोगों के बचपन में और 50 प्रतिशत वयस्क लोगो में अस्थमा होने का कारण धूल, घास, कीड़े, कॉकरोच और पालतू जानवर हैं.सन 2013 से 2017 की रिपोर्ट में 63,000 रोगियों की जांच की गई. एलर्जी के लिए रक्त में उनके आईजीई स्तर की जांच की गई थी. यह पाया गया कि धूल, कॉकरोच इसकी सबसे बड़ी वजह थे.

Please share this news