गुजरात में मार्च के मुकाबले अप्रैल के 7 दिनों में तेजी से बढ़े कोरोना के मरीज

अहमदाबाद (Ahmedabad) . गुजरात में 19 मार्च 2020 को कोरोना ने दस्तक दी थी और 31 मार्च तक 74 केस दर्ज हुए थे. मार्च के आखिरी 13 दिन के मुकाबले अप्रैल के पहले 7 दिनों में गुजरात में कोरोना के केसों में दोगुनी से अधिक वृद्धि हुई है. 1 अप्रैल से 7 अप्रैल यानी आज तक गुजरात में कोरोना के 91 केस दर्ज हो चुके हैं. गुजरात में कोरोना पॉजिटिव के दो सबसे केस राजकोट और सूरत (Surat) में 19 मार्च को दर्ज हुए थे.

जिसमें राजकोट का एक युवक मक्का मदीने से लौटा था, जबकि सूरत (Surat) की युवती न्यूयोर्क आई थी. राजकोट और सूरत (Surat) के दो केसों के साथ कोरोना 19 मार्च को गुजरात में दस्तक दी थी और 31 मार्च 2020 तक कोरोना के मरीजों की संख्या 74 पर पहुंच गई है. हांलाकि मार्च के 13 दिनों के मुकाबले अप्रैल के पहले सात दिनों में कोरोना के केसों में चिंताजनक वृद्धि हुई और 91 केसों के साथ राज्य में कोरोना मरीजों की संख्या 165 पर पहुंच गई.

  मणिपुर और पूर्वोत्तर भारत के कुछ हिस्सों में महसूस किए गए भूकंप के झटके

जिसमें सबसे अधिक कोरोना के 77 मरीज अहमदाबाद (Ahmedabad) में हैं. कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्यभर में 15 होट स्पोट घोषित किए गए हैं. अहमदाबाद (Ahmedabad) को पहले होट स्पोट घोषित किया जा चुका है. अहमदाबाद (Ahmedabad) में 14 हजार से ज्यादा लोगों को कोरन्टाइन किया गया है. अहमदाबाद (Ahmedabad) के कोरोना संक्रमित क्षेत्र दाणीलीमडा, बापूनगर, रखियाल, आंबावाडी, जमालपुर, दरियापुर, मातावाली पोल समेत कालूपुर टावर के निकट बलोचवाड को क्लस्टर कोरन्टाइन किया गया है. अहमदाबाद (Ahmedabad) में पिछले एक सप्ताह कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए हैं, महानगर पालिका के डोर टू डोर सर्वे का नतीजा है.

  मालवीय नगर थाने में पहुंचा कोरोना एक साथ 10 पुलिसकर्मी संक्रमित मिलने से हड़कंप

जिन इलाकों में कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए हैं उन क्षेत्रों के निवासी और आसपास समेत उनके नाते-रिश्तेदार व मित्र समूहों की जांच की जा रही है. खासकर क्लस्टर कोरन्टाइन और घनी आबादी वाले क्षेत्रों पर खास ध्यान दिया जा रहा है. गुजरात में कोरोना के अब जितने नए मामले सामने आ रहे हैं वह सभी स्थानीय संक्रमण का नतीजा है. मंगलवार (Tuesday) को नए 19 केस भी लोकल ट्रांसमिशन के हैं.

Please share this news