निजामुद्दीन मरकज के बाद अब गुरुद्वारा मजनूं का टीला हुआ सील, 300 से ज्यादा लोग फंसे


नई दिल्ली (New Delhi) . दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की लापरवाही के चलते ऐतिहासिक गुरुद्वारा मजनूं टीला साहिब में पिछले तीन दिनों से 300 से ज्यादा लोग फंसे हुए हैं. इनमें से कुछ ही तबियत भी ठीक नहीं है. दिल्ली के निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के मरकज का खुलासा होने के बाद अब गुरुद्वारा में रोके गए इन लोगों को लेकर भी सियासत तेज हो गई है. मामला हाथ से निकलता देख कमेटी ने भी अब बचाव का रास्ता ढूंढ रही है.

जानकारी के अनुसार दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने दिल्ली में फंसे पंजाब के लोगों को अमृतसर तक भेजने के लिए दिल्ली कमेटी तथा शिरोमणि कमेटी की तरफ से एक अपील की गई. साथ ही दो-दो बसें भेजने का ऐलान किया गया. बस को भेजने का समय 29 मार्च को सुबह 6 बजे का बताया गया था. जिसके बाद दिल्ली में फंसे पंजाब के रहने वाले लोग बड़ी संख्या में गरुद्वारा मजनू टीला साहब पहुंच गए. वहां पहुंचने के बाद कमेटी स्टाफ ने बाकायदा पंजाब जाने के इच्छुक लोगों के नाम और आधार कार्ड नंबर रजिस्टर्ड किए. इसके बाद लगभग 400 लोगों की संख्या सामने आई.

  अमेरिका के शोधकर्ताओं का दावा : भारत में कोरोना संक्रमण का जोखिम बहुत ज्यादा

ज्यादा भीड़ को देखकर हड़बड़ी में कमेटी ने दो बसों को गुरुद्वारे से कुछ लोगों को रवाना कर दिया. साथ ही 300 से अधिक लोगों को यह दिलाशा दिया गया कि आप गुरुद्वारे के लंगर हाल में रुकिए, यहां लंगर की पूरी व्यवस्था है, दूसरे दिन बसों की व्यवस्था करके भेजा जाएगा. लेकिन 29 मार्च को बसों की कोई व्यवस्था नहीं हो पाई;. 30 मार्च को कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने पंजाब के मुख्यमंत्री (Chief Minister) कैप्टन अमरिंदर सिंह को टवीट करके गुरुद्वारा मंजनू टीला में रुके हुए पंजाब के लोगों को पंजाब वापस ले जाने के लिए बसें देने की मांग की.

  दिल्ली में खुले सभी रेलवे रिजर्वेशन काउंटर टिकट के लिए लगी लंबी लाइन

इसके साथ ही ट्वीट में कुछ फोटो भी भेजी जिसमें भारी भीड नजर आ रही थी. इस बीच सिरसा ने एक नया ट्वीट करके दिल्ली के मुख्यमंत्री (Chief Minister) अरविंद केजरीवाल को इन लोगों की मेडिकल जांच की मांग कर दी. सिरसा ने कहा कि गुरुद्वारा मजनू टीला में फंसे हुए लोगों में से कुछ को करोना संक्रमण के लक्षण नजर आ रहे हैं, इसलिए सरकार (Government) इनको मेडिकल जांच कराकर इनको घरों तक भेजे.

दिल्ली कमेटी के पूर्व अध्यक्ष मंजीत सिंह जीके ने कमेटी की घोर लापरवाही करार देते हुए कहा कि मनजिंदर सिंह सिरसा ने पहले इन लोगों को खुद गुरुद्वारे में बुलाया, तीन दिन एक हाल में इनको इकट्ठे रखा और अब इनको करोना संदिग्ध बताकर इनको मानसिक तौर पर परेशान किया जा रहा है. जीके ने कहा कि अगर सिरसा के पास लोगों के भेजने के साधन नहीं थे, तो क्यों 400 लोगों को बुलाकर एकत्र किया गया. जीके ने दावा किया कि निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के मरकज मामले का खुलासा सामने आने के बाद सिरसा डर गए हैं. वह अब जिम्मेदारी से भागने की कोशिश कर रहे हैं. उन्होंने कहा अगर इनमें से किसी को भी करोना का संक्रमण हुआ, तो उसके लिए सिरसा जिम्मेदार होंगे.

Please share this news