Friday , 25 September 2020

बाल श्रम को रोकने के लिए प्रशासन प्रतिबद्ध : यूनिसेफ के साथ मिलकर होगी महिला वार्ड पंचों व सरपंचों की ट्रेनिंग


उदयपुर (Udaipur). जिला कलक्टर (District Collector) चेतन देवड़ा ने कहा है कि जिले में बाल श्रम को रोकने के लिए प्रशाासन प्रतिबद्ध है और ग्राम स्तर पर जनजागरूकता के माध्यम से इस पर अंकुल लगाने के प्रयास किए जाएंगे.

कलक्टर देवड़ा ने यह विचार मंगलवार (Tuesday) को बाल श्रम व बाल अधिकार संरक्षण यूनिसेफ प्रतिनिधियों की बैठक के दौरान व्यक्त किए. यूनिसेफ की बाल संरक्षण सलाहकार सिंधु बिनुजीत ने इस दौरान जिला कलक्टर (District Collector) को जिले में बाल श्रम को रोकने तथा बाल अधिकार संरक्षण के लिए किए जा रहे प्रयासों के बारे में बताया और कहा कि पुलिस (Police) और प्रशासन के माध्यम से आईजी बिनीता ठाकुर के निर्देशन में बाल अधिकार संरक्षण के लिए चल रहे ‘कॉम्बेट’ कार्यक्रम में यूनिसेफ द्वारा तकनीकी सहयोग प्रदान किया जा रहा है. बिनुजीत ने बाल श्रम, बाल तस्करी आदि के साथ प्रशिक्षण कार्यक्रम के बारे में बताया तथा ग्राम स्तरीय व ब्लॉक स्तरीय बाल संरक्षण समितियों को सुदृढ़ करने की आवश्यकता जताई.

इसी दौरान कलक्टर ने यूनिसेफ द्वारा तैयार की गई ‘पुलिस (Police) अंकल’ बुकलेट को देखा और जिले में बाल श्रम व इससे जुड़े विषयों पर किए जाने वाले प्रयासों के बारे में पूछा. इस मौके पर यूनिसेफ वरिष्ठ जिला स्तरीय सलाहकार आकाश उपाध्याय व अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे.

महिला वार्डपंच व सरपंचों की ऑनलाईन ट्रेनिंग:  बैठक दौरान कलक्टर ने जिले में बाल श्रम रोकने और ग्राम स्तरीय बाल संरक्षण समितियों को सुदृढ़ करने के उपायों के बारे में पूछे जाने पर बाल संरक्षण सलाहकार बिनुजीत ने जिले की समस्त महिला वार्ड पंच व सरपंचों की ऑनलाईन ट्रेनिंग की आवश्यकता जताई. इस पर कलक्टर देवड़ा ने तत्काल ही जिला परिषद सीईओ डॉ. मंजू के माध्यम से इस ऑनलाईन ट्रेनिंग की कार्ययोजना तैयार करने की बात कही और कहा कि बहुत ही जल्द यह प्रशिक्षण पूर्ण कर लिया जाए.

Please share this news