98 श्रमिक रेल गाडिय़ों ने प्रवासियों को पहुंचाया उनके घर


जयपुर (jaipur) . उत्तर पश्चिम रेलवे (Railway)द्वारा चलाई गई 98 श्रमिक स्पेशल रेलगाडिय़ों से अब तक एक लाख 38 हजार से अधिक प्रवासी श्रमिकों को उनके गृह राज्य भेजा गया है. ये सभी श्रमिक रोजगार के लिए राजस्थान (Rajasthan) आए हुए थे और कोरोना की वजह से घोषित लॉकडाउन (Lockdown) के कारण यहाँ फंस गए थे. इन रेलगाडिय़ों से केवल उन्हीं प्रवासी मजदूरों को भेजा गया जो राज्य सरकार (Government) की ओर से चिन्हित किए गए थे.

उत्तर पश्चिम रेलवे (Railway)के विभिन्न मंडलों से जो रेलगाडिय़ां संचालित की गईं उनमें बिहार, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, झारखंड, पश्चिम बंगाल (West Bengal) और आँध्र प्रदेश के प्रवासी श्रमिकों को भेजा गया. इन सभी रेलगाडिय़ों में यात्रियों (Passengers) को कोरोना के संक्रमण से बचाने के लिए पुख़्ता इंतज़ाम किए गए. लंबी दूरी की गाडिय़ों में यात्रियों (Passengers) के लिए भोजन और पानी का नि:शुल्क बंदोबस्त किया गया. रेलगाडिय़ों में चढऩे से पहले प्रत्येक यात्री की स्क्रीनिंग की गई. श्रमिक स्पेशल रेलगाडिय़ों के संचालन में राजस्थान (Rajasthan) सरकार (Government) का सक्रिय सहयोग रहा. राज्य सरकार (Government) की माँग के अनुरूप इन रेलगाडिय़ों का संचालन किया गया. इस दौरान केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी सभी दिशा-निर्देशों का पालन किया गया. उत्तर पश्चिम रेलवे (Railway)की ओर से आज भी श्रमिक स्पेशल रेलगाडिय़ां चलायी जा रहीं है उनमें जयपुर (jaipur) से गोरखपुर, जयपुर (jaipur) से पूर्णिया, जोधपुर से पूर्णिया, बीकानेर से पूर्णिया, हनुमानगढ़ से पूर्णिया, सीकर से बेंगूसराय और उदयपुर (Udaipur) से गोरखपुर शामिल है.

  पायलट की बर्खास्तगी के बाद राजस्थान में भड़क सकता है गुर्जर आंदोलन

अब तक अन्य राज्यों से 37 श्रमिक स्पेशल रेलगाडिय़ां उत्तर पश्चिम जोन में आ चुकी हैं, जिनमें 42 हजार प्रवासी मजदूर राजस्थान (Rajasthan) लौटे है. आज भी दो श्रमिक स्पेशल रेलगाडिय़ां राजस्थान (Rajasthan) पहुंची. ये गाडियाँ महाराष्ट्र, कर्नाटक (Karnataka), तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, गुजरात, झारखंड, केरल तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल (West Bengal) से आयीं हैं. उत्तर पश्चिम रेलवे (Railway)के प्रवक्ता के अनुसार अगर राज्य सरकार (Government) मांग करेगी तो रेलवे (Railway)की ओर से और श्रमिक स्पेशल गाडिय़ों का संचालन किया जाएगा.

Please share this news