Monday , 28 September 2020

एमपीयूएटी में 79 व्यावसायिक प्रशिक्षण शुभारंभ करने की घोषणा

उदयपुर (Udaipur). महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के उच्च अधिकारियों की  बैठक सोशल डिस्टेन्सिग व गाॅईडलाइन्स का पालन करते हुए माननीय कुलपति डॉ नरेंद्र सिंह जी राठौड़ की अध्यक्षता में शुक्रवार (Friday) को कुलपति सचिवालय में संपन्न हुई. बैठक में कुलसचिव श्रीमती कविता पाठक, वित्त नियंत्रक डॉ संजय सिंह एवं एसओसी सदस्य सभी निदेशक, अधिष्ठाता, भूसंपति अधिकारी, छात्र (student) कल्याण अधिकारी एवं विशेषाधिकारी डाॅ. विरेन्द्र नेपालिया एवं डाॅ. एस.एस. राठौड़ भी उपस्थित रहे.

बैठक के प्रारंभ में कुलसचिव श्रीमती कविता पाठक ने सभी सदस्यों का स्वागत किया. बैठक का संचालन करते हुए कुलसचिव श्रीमती पाठक ने विभिन्न एजेंडा बिंदु माननीय सदस्यों के समक्ष रखे. बैठक के प्रारंभ में कम्युनिकेशन टेक्नोलोजी विभागाध्यक्ष डॉ. सुनील जोशी ने पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से विश्वविद्यालय मे नवस्थापित डिजिटल टेक्नोलोजी सेल की विस्तृत जानकारी दी. इस प्रकोष्ठ के माध्यम से विश्वविद्यालय की फैकल्टी, विद्यार्थियों, उद्यमियों एवं स्वरोजगार को अपनाने के इच्छुक शिक्षित बेरोजगार युवाओं के प्रशिक्षण एवं अनुसंधान हेतु एक उच्चस्तरीय डिजिटल टेक्नोलोजी लेब स्थापित की जाएगी. इस व्यवस्था के माध्यम से कृषि मे सूचना एवं संचार तकनिकी के प्रयोग, आर्टीफिशियल एव आॅगमेन्टेड रियलिटी डिजिटल टेक्नोलोजी एवं स्मार्ट एग्रीकल्चर जैसे मृदा की जांच कृषि भूमि की त्री आयामि छवि, फसल प्रबन्धन, फसलों मे तकनीक आधारित स्वचालित सिचांई प्रणाली, उर्वरकों के प्रयोग इत्यादि तकनीकों पर दक्षता एवं क्षमतावर्धन के लिए विशेष प्रशिक्षण आयोजित किये जा सकेंगें. इस दौरान माननीय कुलपति जी ने बताया कि इस उच्च तकनीक आधारित व्यवस्था से आईटी सेक्टर में नवीन शोध एवं रोबोटिक्स को भी बढ़ावा मिलेगा.

बैठक मे निम्न बिंदुओं पर भी चर्चा हुई-

1. विश्वविद्यालय में इस वर्षाकाल के दौरान वृहद वृक्षारोपण की रणनीति तैयार कर विभिन्न प्रसार व अनुसंधान ईकाइयों, महाविद्यालयों एवं प्रशासनिक परिसर मे योजनाबद्ध वृक्षारोपण किया जायेगा.

2. माननीय कुलाधिपति राज्यपाल महोदय के दिशानिर्देशानुरूप विश्वविद्यालय में एक संविधान पार्क की स्थापना की जाएगी जिसके लिऐ परियोजना बनाकर राजभवन से स्वीकृति ली जाएगी.

3. विश्वविद्यालय में आगामी 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस सादगी पूर्ण तरीके से मनाया जाएगा. जिसमें शासकीय दिशानिर्देशों का पालन करते हुए सोशल डिस्टेन्सिग, मास्क का प्रयोग व सीमित संख्या में अधिकारियों व कर्मचारियों की उपस्थिति सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गये है.

4. इस अवसर पर माननीय कुलपति जी ने विश्वविद्यालय में पहली बार तैयार रोजगार परक 79 व्यावसायिक प्रशिक्षण कार्यक्रमों केे शुभारंभ की घोषणा की. इन प्रशिक्षण कार्यक्रमों से विश्वविद्यालय को अतिरिक्त आर्थिक संबल मिलेगा साथ ही क्षेत्र के बेरोजगार युवाओं के कौशल एवं दक्षता विकास में भी मदद मिलेगी, जिससे वे स्वयं के उद्योग स्थापित कर सकेंगें. व्यावसायिक कार्यक्रमों के संयोजक डाॅ. पी.के. सिंह ने विभिन्न संकायो द्वारा प्रस्तावित 79 प्रशिक्षण कार्यक्रम प्रारंभ करने की रूपरेखा बताई उन्होने बताया कि सीटीएई मे 33, आरसीए मे 22, सीसीएएस मे 11, सीडीएफटी मे 8, कृषि काॅलेज भीलवाड़ा मे 3 एवं मात्स्यकी महाविद्याल में 2 व्यावसायिक प्रशिक्षण कार्यक्रम 31 अगस्त से प्रारम्भ किये जाऐंगे.

5. इस अवसर पर माननीय कुलाधिपति के निर्देशानुसार सभी कृषि विश्वविद्यालयों के सशोधिंत एवं समान नियम एवं उपनियमों का प्रारूप सदन के पटल पर रखा गया तथा माननीय कुलपति के दिशानिर्देशों पर इसमे अतिरिक्त सशोधंन हेतु उच्च अधिकारियों से आगामी तीन दिनों में सुझाव मांगे गए हंै.

बैठक मे विशेष रूप से आंमत्रित सामुदायिक एवं व्यवहारिक विज्ञान महाविद्यालय की अधिष्ठाता डाॅ. रितु सिंघवी की सेवानिवृति पर उन्हे भावभीनि विदाई दी गई. माननीय कुलपति ने उनके 38 वर्षो के गरिमामय सेवाकाल एवं अधिष्ठाता पद पर रहते हुए महाविद्यालय मे किये गए विकास कार्यो के लिए उनकी प्रशंसा की इस अवसर पर सामुदायिक एवं व्यवहारिक विज्ञान महाविद्यालय की नवनियुक्त अधिष्ठाता डाॅ. मीनु श्रीवास्तव भी उपस्थित थी तथा सभी ने उन्हे इस अवसर पर बधाई एवं शुभकामनाऐं दी. बैठक के अंत में कुलसचिव श्रीमती कविता पाठक ने सभी सम्मानित सदस्यों का धन्यवाद ज्ञापित किया.

Please share this news