2.1 फीसदी रहेगी विकास की रफ्तार, गरीबी के दायरे में आ जाएंगे 11 मिलियन लोग

विश्व बैंक (Bank) ने जारी किया अर्थव्यवस्था पर कोरोना के प्रभाव का पूर्वानुमान

वाशिंगटन . विश्व बैंक (Bank) ने अनुमान जाहिर किया है कि वैश्विक महामारी (Epidemic) कोरोना (Corona virus) की वजह से इस साल चीन तथा अन्य पूर्वी एशिया प्रशांत देशों में अर्थव्यवस्था की रफ्तार बहुत धीमी रहने वाली है. इसकी वजह से लाखों लोग गरीबी की ओर चले जाएंगे. विश्वबैंक (Bank) ने अपनी ताजा रिपोर्ट में यह आशंका व्यक्त की है. विश्वबैंक (Bank) की रिपोर्ट में कहा गया है कि क्षेत्र में इस वर्ष विकास की रफ्तार 2.1 फीसदी रह सकती है, जो 2019 में 5.8 फीसदी थी. बैंक (Bank) का अनुमान है कि 1.1 करोड़ से अधिक संख्या में लोग गरीबी के दायरे में आ जाएंगे. यह अनुमान पहले के उस अनुमान के विपरीत है, जिसमें कहा गया था कि इस वर्ष विकास दर पर्याप्त रहेगी और 3.5 करोड़ लोग गरीबी रेखा से ऊपर उठ जाएंगे. रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन की विकास दर भी पिछले साल की 6.1 फीसदी से घटकर इस साल 2.3 फीसदी रह जाएगी.

Please share this news
  गुजरात में 396 नए केस, अहमदाबाद में कोरोना का आंकड़ा 10000 के पार