लॉकडाउन से भारत में उम्मीद, चीन ने कोरोना को इस तरह दी थी मात


नई दिल्ली (New Delhi) . दुनिया के ज्यादातर देश कोरोना (Corona virus) को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन (Lockdown) कर रहे हैं. चीन खुद लॉकडाउन (Lockdown) की मदद से ही कोरोना के कहर पर काबू पाने में कामयाब हो सका है. भारत में भी कोरोना का प्रसार थामने के लिए 21 दिनों का कड़ा लॉकडाउन (Lockdown) घोषित किया है. भारत में भी चीन की तरह कोरोना के प्रसार को रोकने में काफी मदद मिलेगी.

अभी तक 1.3 अरब से अधिक आबादी को समेटने वाले लॉकडाउन (Lockdown) को सबसे बड़ा लॉकडाउन (Lockdown) बता रहे हैं, वो भी तब जब कोरोना के सामुदायिक स्तर पर फैलने के संकेत नहीं मिले हैं. 24 मार्च को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीन हफ्ते के देशव्यापी लॉकडाउन (Lockdown) की घोषणा की. इसके तहत जरूरी सेवाओं से जुड़े कर्मचारियों के अलावा सभी की आवाजाही पर प्रतिबंध लगाया गया. राशन, दूध-दही, फल-सब्जी और दवा को छोड़ सभी दुकानें बंद कर दी गईं. रेल, मेट्रो, विमान, बस सेवाओं पर भी ब्रेक लगा.

  नीतीश कुमार ने की प्रवासी मज़दूरों से बात, कहा अब नहीं जाना

– बस-कैब अब रुके

वैश्विक स्तर पर कोरोना के प्रसार का सबब बने चीन में भी इतनी कड़ी पाबंदियां नहीं लगाई गई थीं. देश में बस और कैब सेवा बहाल रखी गई थी. हां, चालक और यात्रियों (Passengers) के बीच प्लास्टिक शीट लगाना जरूर अनिवार्य था. इसके अलावा रेल-हवाई सेवाएं सिर्फ हुबेई जैसे प्रांतों में ही स्थगित की गई थीं.

– खरीददारी के नियम तय

कोरोना का केंद्र बने चीन के वुहान में सरकार (Government) ने काफी सख्ती बरती. आसपास के ही इलाके सील किए गए. अधिकतर इलाकों में सिर्फ खाने-पीने की चीजों और दवाओं की बिक्री करने वाली दुकानें खोली गईं. जरूरी सामान की खरीददारी के लिए हर दो दिन पर प्रत्येक परिवार के किसी एक सदस्य को घर से बाहर निकलने का नियम लागू किया गया. खरीदारी के लिए निकलते समय बुखार नपवाना और मास्क पहनना अनिवार्य था. कई इलाकों में सिर्फ कूरियर से सामान मंगवाने की छूट दी गई.

  उदयपुर से बिहार के लिए रवाना हुई प्रवासियों की ट्रेन

– इटली में यात्रा पास

इटली में कोरोना के सामुदायिक प्रसार के बाद 9 मार्च को देशव्यापी लॉकडाउन (Lockdown) हुआ. हालांकि, सार्वजनिक परिवहन बंद नहीं हुआ. अलबत्ता यात्रियों (Passengers) को पास जारी हुए. जिनके तहत वे सीमित संख्या में जरूरी यात्राएं कर सकते थे. देश में सिर्फ जरूरी सामानकी बिक्री करने वाली दुकानें खोलने का फैसला हुआ. हर दुकान में एक समय में प्रवेश करने वाले खरीदारों की संख्या भी निर्धारित की गई. खरीदार के लिए मास्क, थर्मल जांच करवाना और एक मीटर की दूरी अनिवार्य हुआ.

– फ्रांस में जुर्माने

सिर्फ जरूरी सामान की खरीददारी या बीमार परिजनों की देखभाल के लिए घर से बाहर निकलने की छूट दी गई. निकलते समय यात्रा विवरण फॉर्म भरना जरूरी है. फॉर्म में गलत जानकारी देने या उद्घोषणा का उल्लंघन करने पर करीब 10800 रुपये के जुर्माने का प्रावधान है.

  उम्र का सैकड़ा पार वृद्ध महिला ने संयमित जीवनशैली एवं जीवटता से दी कोरोना को मात

– बांग्लादेश में 10 दिन का अवकाश

प्रधानमंत्री शेख हसीना ने 25 मार्च को लोगों से घरों में रहने की अपील करते हुए राष्ट्रीय स्तर पर 10 दिन के अवकाश की घोषणा की. इससे पहले सरकार (Government) ने 20 मार्च को सार्वजनिक परिवहन पर रोक के संकेत दिए थे, ताकि प्रवासी मजदूरों को गांव लौटने का समय मिल सके.

– स्पेन, श्रीलंका में भी सख्ती

स्पेन में सुपरमार्केट में खरीदारी या सार्वजनिक परिवहन में सफर के दौरान मास्क, दस्ताने पहनना और आपस में दो मीटर की दूरी रखना अनिवार्य किया गया. श्रीलंका में लॉकडाउन (Lockdown) से बेरोजगार हुए मजदूरों को उनके गांव पहुंचाने के लिए विशेष ट्रेन और बसें चलाईं.

Please share this news