लापरवाही बरतने पर 3 पटवारियों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी, एक को सेवा से हटाया गया

चित्तौड़गढ़. जिले के 3 पटवारियों को काम में लापरवाही भारी पड़ी. राजस्व विभाग ने कार्य के प्रति लापरवाही, अनुशासनहीनता करने वाले कार्मिकों पर सख्ती की है.

जिला कलेक्टर (Collector) इंद्रजीत सिंह ने इस तरह के मामले में जिले के तीन पटवारियों को अनिवार्य सेवानिवृति देने सहित एक पटवारी को राजकीय सेवा से पृथक कर दिया है. चार पटवारियों को राजस्थान असैनिक सेवाएं (वर्गीकरण, नियंत्रण एवं अपील) नियमों के नियम 16 के अंतर्गत दंडित किया है. आदेश के तहत चित्तौड़गढ़ तहसील के पटवारी कैलाशचंद्र शर्मा को राजकीय दायित्वों का निर्वहन नहीं करने, रिकॉर्ड में नियमों की अनदेखी, स्वैच्छिक रूप से मुख्यालय से अनुपस्थित रहने तथा वित्तीय अनियमितताओं को ध्यान में रखते हुए अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी गई है. इसी तरह चित्तौड़गढ़ तहसील के ही पटवारी रियाज खान को सरकार (Government) आपके द्वार कार्यक्रम-2014 में जनसुनवाई के दौरान प्राप्त शिकायतों की जांच में दोष सिद्ध होने पर अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी गई है. वही भदेसर तहसील में प्रतिनियुक्ति पर पटवारी हरीशकुमार बारबर को लंबे समय से अनुपस्थित रहने तथा राजकीय दायित्वों का निर्वहन नहीं करने से अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी गई है.
कलेक्टर (Collector) द्वारा एक और आदेश में बेगूं तहसील के पटवारी कालूराम मीणा को परीवीक्षा काल में तहसील कार्यालय में राजकीय समय में शराब पीकर अधिकारी एवं राजकर्मियों के साथ अभद्रता व उत्पात मचाने तथा एक लोकसेवक के रूप में दुराचरण में लिप्त रहने व 48 घंटों से अधिक न्यायिक अभिरक्षा में रहने से राजकीय सेवा से पृथक कर दिया गया है.

The post लापरवाही बरतने पर 3 पटवारियों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी, एक को सेवा से हटाया गया appeared first on .

Please share this news