Saturday , 26 September 2020

राम मंदिर के भूमि पूजन में उपयोग होगी आठ हजार स्थानों की मिट्टी


अयोध्या . भगवान श्रीराम की नगरी अयोध्या में आगामी पांच अगस्त को राममंदिर का भूमि पूजन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) (Prime Minister Narendra Modi) के हाथों होना है. इस मौके पर देशभर के करीब आठ हजार पवित्र स्थलों से मिट्टी, जल और रजकण का उपयोग किया जाएगा.

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य कामेश्वर चैपाल ने बताया कि पूरे देश से अयोध्या पहुंचने वाली मिट्टी एवं जल का आंकड़ा अभी तक जोड़ा नहीं गया है लेकिन ऐसा अनुमान है कि सात-आठ हजार स्थानों से मिट्टी, जल एवं रजकण पूजन के लिए अयोध्या पहुंचेगा. दो दिन पहले तक करीब 3,000 स्थानों से मिट्टी और जल यहां आ चुका है.

वहीं विहिप से जुड़े लोगों ने बताया कि काशी स्थित संत रविदास जी की जन्मस्थली, बिहार (Bihar)के सीतामढ़ी स्थित महर्षि वाल्मीकि आश्रम, महाराष्ट्र (Maharashtra) में विदर्भ के गोंदिया जिला के कचारगड, झारखंड के रामरेखाधाम, मध्य प्रदेश के टंट्या भील की पुण्यभूमि से जुड़े स्थलों, पटना (Patna) के श्रीहरमंदिर साहिब, डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर के जन्मस्थान महू, दिल्ली के जैन मंदिर और वाल्मीकि मंदिर जैसे स्थलों से मिट्टी एवं पवित्र जल एकत्र किया जा रहा है.

उन्होंने बताया कि पश्चिम बंगाल (West Bengal) के कालीघाट, दक्षिणेश्वर, गंगासागर और कूचबिहार (Bihar)के मदन मोहन जैसे मंदिरों की पवित्र मिट्टी के साथ ही गंगाासागर, भागीरथी, त्रिवेणी नदियों के संगम से जल अयोध्या भेजा जा रहा है. प्रयागराज (Prayagraj)के पावन संगम के जल एवं मिट्टी का भी भूमि पूजन में उपयोग किया जाएगा.

Please share this news