Wednesday , 28 October 2020

राम मंदिर की नींव 15 फीट गहरी होगी शेषावतार मंदिर भी बनेगा


नई दिल्ली (New Delhi) . अयोध्या (Ayodhya) में राम मंदिर (Ram Temple) निर्माण को लेकर बड़ी खबर आ रही है. सूत्रों के मुताबिक, राम मंदिर (Ram Temple) की नींव 15 फीट गहरी होगी. राम मंदिर (Ram Temple) की नींव में 8 लेयर होंगे. 2-2 फीट की एक लेयर होगी. नींव का प्लेटफॉर्म तैयार करने में कंक्रीट, मोरंग का इस्तेमाल होगा. सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि राम मंदिर (Ram Temple) में लोहे का इस्तेमाल नहीं होगा. भूतल मिलाकर राम मंदिर (Ram Temple) तीन मंजिल का होगा. भूतल, प्रथम तल और द्वितीय तल नए मॉडल के मुताबिक राम मंदिर (Ram Temple) 10 एकड़ में बनेगा.

शेष 57 एकड़ को राम मंदिर (Ram Temple) परिसर के तौर पर विकसित किया जाएगा. राम मंदिर (Ram Temple) परिसर में नक्षत्र वाटिका बनाई जाएगी, 27 नक्षत्र के वृक्ष लगाए जाएंगे. नक्षत्र वाटिका का बनाने का मकसद है कि अपने अपने जन्मदिन पर लोग अपने नक्षत्र के हिसाब से पेड़ के नीचे बैठकर ध्यान लगा सकें और राम मंदिर (Ram Temple) परिसर में पूजा अर्चना कर सकें. राम मंदिर (Ram Temple) परिसर में बाल्मीकि रामायण में वर्णित वृक्षों को भी लगाया जाएगा और इनका नाम भी बाल्मीकि रामायण के आधार पर ही रखा जाएगा.शेषावतार मंदिर की अस्थाई स्थापना राम मंदिर (Ram Temple) के भूमि पूजन के बाद की जाएगी. राम मंदिर (Ram Temple) निर्माण पूरा होने के बाद राम मंदिर (Ram Temple) परिसर में स्थाई तौर पर शेषावतार मंदिर बनेगा. राम मंदिर (Ram Temple) में परिसर में रामकथा कुंज पार्क भी बनेगा जो भगवान राम के जीवन चरित्र पर आधारित होगा.

राम मंदिर (Ram Temple) परिसर में खुदाई के दौरान मिले अवशेषों का संग्रहालय भी बनाया जाएगा. गोशाला, धर्मशाला, अन्य मंदिर बनाए जाएंगे. राम मंदिर (Ram Temple) के भूमि पूजन के लिए ताम्रपत्र तैयार कराया जा रहा है. ताम्रपत्र पर संस्कृत भाषा में राम मंदिर (Ram Temple) से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी लिखी होगी. ताम्रपत्र पर मंदिर का नाम, स्थान, नक्षत्र, समय लिखा होगा, जिसे नींव में रखा जाएगा. सभी प्रमुख तीर्थ स्थलों की मिट्टी और नदियों के जल से भूमि पूजन किया जाएगा. राम मंदिर (Ram Temple) में परिसर में 2 परिक्रमा केन्द्र भी बनाए जाएंगे. पहली परिक्रमा गर्भगृह की होगी और दूसरी परिक्रमा राम मंदिर (Ram Temple) की होगी.

Please share this news