महिलाओं के सम्मान में पुरुषों ने खाए लठ, नेजा लूटने पहुंचे पुरुषों पर भारी पड़ी महिलाएं

प्रतापगढ़. लठ्‌ठ मार होली के लिए बससाना देश ही नहीं विदेशों में भी प्रसिद्ध है. यहां बरसाने की महिलाओं और नंदगांव के पुरुषों द्वारा खेली जाने वाली लठ्‌ठ मार होली का अलग ही नजारा होता है. लेकिन राजस्‍थान में भी इसी तरह प्रतापगढ़ जिला मुख्यालय से 8 किमी दूर टांडा गांव भी एक दिन के बरसाना बन जाता है. जहां महिलाएं नेजा लूटने आए पुरुषों का स्वागत लठ्‌ठ से करती है. पुरुष भी सहजता से लठ्‌ठ की मार सहते हुए नेजा लूटने की कोशिश करते हैं. रविवार (Sunday) को खेली गई लठ्‌ठ मार होली में महिलाओं ने जमकर लठ्‌ठ बरसाते हुए वर्षो पुरानी परंपरा का निर्वाह किया.

जिला मुख्यालय से महज 8 किलोमीटर दूर टांडा गांव में आज भी बरसों पुरानी परंपरा का निर्वाह किया जाता है. लबाना समाज की ओर से फागोत्सव पर टांडा गांव के नायक गौतम लबाना के खेत पर लठ्‌ठ मार होली खेली गई. जिसमें महिलाएं नेजा लूटने आए पुरुषों को घेर कर उन पर लाठियां बरसाती नजर आई. जबकी पुरुष लाठियों के वार का बचाव करते नजर आए. वैसे तो यह होली केवल लबाना समाज के लोग खेलते हैं, पर होली के त्योहार में उत्साह के साथ अन्य समाज के लोग भी इसमें भाग लेते हैं और महिलाएं उन पर भी खूब लठ्‌ठ बरसाती है. लठ्‌ठ मार होली शुरू करने से पहले पूजा अर्चना के साथ महिलाओं और पुरुषों ने पारंपरिक नृत्य किया.

Please share this news