मंडी में 1735 रुपए भाव होने से समर्थन मूल्य खरीद केंद्र पर गेहूं नहीं बेच रहे किसान

प्रतापगढ़. इस वर्ष गेहूं की बंपर उपज को देखते हुए समर्थन मूल्य केंद्र पर गेहूं की अच्छी आवक की उम्मीद थी, लेकिन लगभग डेढ़ माह बीतने के बाद भी अभी तक मात्र 14 हजार क्विंटल गेहूं की ही खरीद हुई है. जो काफी कम मानी जा रही है. पिछले चार दिनों से गेहूं की आवक लगातार कम होती जा रही है. इसके पीछे बड़ा कारण मध्यप्रदेश में गेहूं के भाव में तेजी और स्थानीय बाजार में भी गेहूं के अच्छे भाव मिलना माना जा रहा है. कृषि उपज मंडी परिसर में चल रहे एफसीआई के गेहूं के समर्थन मूल्य केंद्र पर अब तक 270 किसानों के गेहूं की खरीद कर 2 करोड़ 37 लाख रुपए का भुगतान किया जा चुका है.

समर्थन मूल्य केंद्र पर सरकार (Government) की आेर से 1735 रुपए क्विंटल पर गेहूं की खरीद की जा रही है. वहीं बाजार व कृषि उपज मंडी में भी काश्तकारों को इसके समकक्ष भाव मिल रहे है. सरकारी खरीद पर होने वाली विभिन्न पेचीदगियों से बचने व अपनी उपज का तुरंत भुगतान मिलने से काश्तकार भी बाजार में ही अपनी उपज को लेकर पहुंच रहे है. कृषि उपज मंडी में जहां रोजाना लगभग 3 हजार बोरी गेहूं की आवक हो रही है, वहीं पिछले चार दिनों में समर्थन मूल्य केंद्र पर 2100 क्विंटल गेहूं की खरीद हुई है. केंद्र पर 7 मई को 700 क्विंटल की खरीद की गई थी. इसके बाद से यह आंकड़ा लगातार घट रहा है. इसी क्रम में 8 मई को 600, 9 मई को 400 व 10 मई को 400 क्विंटल गेहूं की खरीद की गई.

The post मंडी में 1735 रुपए भाव होने से समर्थन मूल्य खरीद केंद्र पर गेहूं नहीं बेच रहे किसान appeared first on .

Please share this news