बेंगलुरु में स्वास्थ्यकर्मियों पर हमले के मामले में 59 लोग गिरफ्तार


बेंगलुरु (Bengaluru) . कोरोना संकट में अपनी जान जोखिम में डालकर काम करने वाले स्वास्थ्यकर्मियों के साथ मारपीट की बढ़ती घटनाएं चिंताजनक हैं. कर्नाटक (Karnataka) की राजधानी बेंगलुरु (Bengaluru) में अल्पसंख्यक बहुल पदरायणपुरा इलाके में पुलिस (Police) और स्वास्थ्यकर्मियों पर रविवार (Sunday) की रात हमला करने के आरोप में 59 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस (Police) ने अपनी प्राथमिकी में कहा है कि टीम वहां कुछ लोगों को पृथकवास में रखने के लिए गई थी. हमले की निंदा करते हुए मुख्यमंत्री (Chief Minister) बीएस येदियुरप्पा ने इसे गुंडागर्दी बताते हुए पुलिस (Police) को दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने को कहा है.

पुलिस (Police) के एक अधिकारी ने कहा, ‘59 लोगों को (पदारायणपुरा से) गिरफ्तार किया गया है और उन्हें हिरासत में लिया गया है.’ उन्होंने कहा, ‘लोगों ने कोविड-19 (Covid-19) के मरीजों के प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष संपर्क में आए लोगों को पृथकवास में रखने गए अधिकारियों पर हमला किया.’ पुलिस (Police) ने कहा कि रविवार (Sunday) को बड़ी संख्या में लोग सड़कों पर आ गए जिनमें ज्यादातर अल्पसंख्यक समुदाय के युवा थे, उन्होंने कोविड-19 (Covid-19) के मरीजों के प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष संपर्क में आए लोगों को पृथकवास में रखने गए अधिकारियों पर हमला किया.

  मां हमें जन्म देती है तो कई बार डॉक्टर हमें पुनर्जन्म देता है

अधिकारियों की भीड़ ने बुरी तरह पिटाई की. पुलिस (Police) ने बताया कि गिरफ्तार किए गए लोगों में फिरोजा नामक एक महिला भी है, जिसने कथित रूप से भीड़ को स्वास्थ्य एवं पुलिस (Police) अधिकारियों पर हमला करने को भड़काया. क्षेत्र में किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए और कोविड-19 (Covid-19) के संदिग्ध मरीजों को पृथकवास में भेजने के लिए बड़ी संख्या में पुलिस (Police)कर्मी तैनात किए गए हैं. पुलिस (Police) के एक दस्ते ने इलाके में फ्लैग मार्च किया. बेंगलुरु (Bengaluru) के पुलिस (Police) आयुक्त भास्कर राव ने बाद में मुख्यमंत्री (Chief Minister) येदियुरप्पा को फोन कर उन्हें पदरायणपुरा में हालात के बारे में बताया. पुलिस (Police) अधिकारी प्राथमिकी में आरोप लगाया है कि जब वह भीड़ को सीसीटीवी कैमरा तोड़ने से रोक रहे थे, तभी भीड़ ने ‘पुलिस (Police) की हत्या (Murder) करो, उन्हें मत बख्शों’ के नारे लगाते हुए उन पर हमला कर दिया.

  लंबी बीमारी के बाद गोल्डन बाबा का निधन, एम्स में चल रहा था इलाज

अधिकारी ने कहा, ‘वे लाठियों और पत्थरों से मारकर हमारी हत्या (Murder) करना चाहते थे. हमारे कुछ कर्मियों को चोटें भी आई हैं.’ येदियुरप्पा ने कहा कि पदारायणपुरा में कल हुई घटना पुलिस (Police), स्वास्थ्य और स्थानीय निकाय के कर्मियों के खिलाफ गुंडागर्दी है. मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने कहा कि उन्होंने वहां लगे अवरोधक और सरकारी कर्मचारियों के लिए लगाई गई कुर्सियां तोड़ दी हैं. वहीं गृहमंत्री बासवराज बोम्मई ने कहा कि पदरायणपुरा जैसी घटना को बर्दास्त नहीं किया जाएगा. उन्होंने कहा, ‘हम किसी के द्वारा ऐसी हरकत बर्दाश्त नहीं करेंगे. हमने 59 लोगों को गिरफ्तार किया है. पांच प्राथमिकियां दर्ज की गई हैं.’ बोम्मई ने क्षेत्र का दौरा कर हालात का जायजा लिया है.

Please share this news