बाजार के लिए अच्छी खबर: दूसरी तमाही होम और ऑटो लोन की पूछपरख बढ़ी

नई दिल्ली (New Delhi) . कोरोना के कारण लागू लाकडाउन से चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही यानी अप्रैल-जून के बीच सबकुछ बंद रहा. लॉकडाउन (Lockdown) के कारण तिमाही में मांग बिल्कुल शून्य पर पहुंच गई. इस दौरान होम और ऑटो लोन की मांग में भी भारी गिरावट दर्ज की गई. दूसरी तमाही (जुलाई-सितंबर) से मांग में तेजी आने लगी.

एक रिपोर्ट के मुताबिक, जुलाई और अगस्त के महीने में होम और ऑटो लोन को लेकर पूछताछ पिछले साल के मुकाबले ज्यादा रही, हालांकि यह जनवरी-फरवरी 2020 के मुकाबले अभी कम है. होम और ऑटो लोन में अगर इतनी तेजी दर्ज की गई है,इसमें पब्लिक सेक्टर बैंकों का बहुत बड़ा योगदान है. रिपोर्ट के मुताबिक, पर्सनल लोन को लेकर पूछताछ पिछले साल के मुकाबले 118 फीसदी है, जबकि इस साल जनवरी-फरवरी के मुकाबले यह 102 फीसदी है.वहीं प्राइवेट बैंकों की करें तो यह पिछले साल के मुकाबले 75 फीसदी तक ही परफॉर्म कर पा रहे हैं.

डेटा के मुताबिक, होम लोन पूछताछ में अच्छी-खासी तेजी आई है. जुलाई-अगस्त 2019 के मुकाबले यह इस साल 112 फीसदी रहा जबकि जनवरी-फरवरी 2020 के मुकाबले 92 फीसदी रहे. उसी तरह ऑटो लोन पूछताछ के मामले पिछले साल के मुकाबले 88 फीसदी और प्री-कोविड लेवल के मुकाबले 84 फीसदी रहे. लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी की बात करें तो यह पिछले साल के मुकाबले 90 फीसदी और प्री-कोविड मुकाबले में 72 फीसदी रहे.

एसबीआई, बैंक (Bank) ऑफ इंडिया, बैंक (Bank) ऑफ बड़ौदा, यूनियन बैंक (Bank) जैसे पब्लिक सेक्टर बैंक (Bank) अभी 7 फीसदी से कम इंट्रेस्ट रेट पर होम लोन ऑफर कर रहे हैं. प्राइवेट बैंकों में एचडीएफसी और आईसीआईसीआई बैंक (Bank) भी 7 फीसदी से नीचे इंट्रेस्ट रेट ऑफर कर रहे हैं. इधर महाराष्ट्र (Maharashtra) सरकार (Government) ने होम लोन पर इंसेटिंव देने की घोषणा की है. स्टॉम्प ड्यूटी को 5 फीसदी से घटाकर 2 फीसदी कर दिया गया है. हालांकि यह स्कीम दिसंबर 2020 तक ही लागू है.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *