पेंशन दिलाने के नाम पर 60 लाख रुपए की 11 बीघा जमीन की वसीयत करा ली

चित्‍तौड़गढ़. जिले के बेगू कस्‍बे के पास सारण गांव की चार सगी बहिनों के बीच 60 लाख की 11 बीघा जमीन का विवाद छीडा. अपने पिता की मृत्यु से पहले बड़ी बहिन द्वारा 11 बीघा जमीन की अपने नाम वसीयत करा ली तो अन्य तीन बहनों ने बड़ी बहन सहित तीन लोगों पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराकर अपना हक दिलाने की मांग की. मामला यह सामने आया कि पिता की पेंशन चालू कराने के बहाने बड़ी बहिन ने धोखे से अपने नाम वसीयत करा ली.

सारण निवासी काना पुत्र नंदा मीणा के चार बेटियां मानी बाई, फूली बाई, सोनी बाई व रतनी बाई मीणा है. काना मीणा की बीमारी हालत में 15 मई 2018 को मृत्यु हो गई व काना की पत्नी की मृत्यु पूर्व में ही हो गई थी. पिता की मृत्यु व बैठक कार्यक्रम से निपट कर पिता की 11 बीघा जमीन का हक चारों बहनों के नाम कराने, इंतकाल खुलाने बड़ी बहन को पटवारी के पास चलने को कहा. बडी बहिन मानी बाई मीणा ने तीनों बहनों को कहा कि पिता की मृत्यु के 3-4 दिन पहले ही पूरी जमीन की वसीयत मेरे नाम कर दी है.

अपनी सगी तीन छोटी बहनों की हक की जमीन अपने नाम धोखे से वसीयत कराने पर तीनों बहनों ने एसीजेएम न्यायालय के जरिए पारसोली थाने में धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया. पारसोली थानाधिकारी दलपत सिंह ने बताया कि न्यायालय के आदेश पर उक्त तीनों आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है.

Please share this news