नोटबंदी में नोट चलाने के लिए उधार दिए, अब 10 % ब्याज से वसूल रहे

चित्तौड़गढ़. नोटबंदी के बाद अपने पास पड़े पुराने नोट चलाने के खातिर आगे चलकर रुपए उधार दिए और फिर 10 प्रतिशत से ब्याज जोड़ने लगे. कर्ज से दोगुनी राशि चुका देने के बाद भी अब वे खाली चेक स्टांप नहीं लौटा रहे हैं. शहर के छीपा मोहल्ला निवासी एक व्यक्ति ने पांच जनों के विरुद्घ इस आशय का प्रकरण पुलिस (Police) में दर्ज कराया.

सूत्रों के अनुसार मोहम्मद अशफाक पुत्र मोहम्मद रफीक ने बताया कि 2016 में जाकिर उर्फ पप्पू ने उसे कहा कि उसके पास पुराने नोट पड़े है. जो अभी दो माह और चलेगे. किसी को उधार चाहिए तो ले सकते हैं. इसके बाद उसने शेरू भाई, रमेश सिंधी,अहमद नूर व युनुस से भी मिलवाया. इन लोगों को भी अपने नोट चलाने थे. अशफाक को किसी ठेके के लिए रुपयों की आवश्यकता होने से उसने इन पांचों लोगों से 50-50 हजार रुपए उधार लिए.

सभी ने पहले तो कहा हिसाब बाद में देख लेंगे, पर बाद में 10 प्रतिशत से ब्याज जोड़ने लगे. उसे एक वीसी से जोड़कर उसके रुपए भी इन लोगों ने हड़प लिए. उसका एक मकान भी गिरवी रखवा रुपए ले लिए. अशफाक ने बताया कि इन लोगों ने उसके खाली चेक व स्टांप भी ले रखे हैं. उसके द्वारा उधार ली हुई राशि से दुगनी राशि चुका देने के बावजूद खाली चेक व स्टांप नहीं लौटाए जा रहे है. किस्त व मूल राशि की मांग को लेकर उसे धमकाया जा रहा है.

The post नोटबंदी में नोट चलाने के लिए उधार दिए, अब 10 % ब्याज से वसूल रहे appeared first on .

Please share this news