[देखने का भविष्य] ED QLED 8K: जहां एआई अपस्केलिंग देता है डीप लर्निंग

 

 

हाल के दिनों में स्क्रीन पिक्चर क्वालिटी ने हाई डेफिनिशन की सीमा को पार कर लिया है – इन दिनों, अब सब कुछ अल्ट्रा-हाई डेफिनिशन है.  हालांकि आज का हार्डवेयर इस तरह विकसित किया गया है कि वह न केवल 4K, बल्कि 8K कंटेंट को भी चला सके, लेकिन वास्तव में 8K गुणवत्ता मानकों के लिहाज से कंटेंट तैयार करने की शुरुआत कुछ ही समय पहले हो पाई है. इसलिए 8K के अस्तित्व में आने से पहले तैयार कंटेंट के वीडियो प्रदर्शन की गुणवत्ता में सुधार के लिए आज के अल्ट्रा-हाई डेफिनिशन मानक के साथ तारतम्य बैठाने की खातिर अपस्कूलिंग तकनीक मौजूद है.

 

सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स का 2020 QLED 8K TV लाइनअप लगातार अपने उपकरणों के अभिनव प्रदर्शन की गुणवत्ता, ध्वनि, डिजाइन और कई अन्य क्षेत्रों के लिए प्रशंसा प्राप्त करता रहा है.  विशेष रूप से यह रेंज अपस्केलिंग टेक्नोलॉजी के लिहाज से एक प्रभावशाली विकास को प्रदर्शित करता है, जिसके मूल में सैमसंग का एआई क्वांटम प्रोसेसर 8K है.

 

सैमसंग न्यूज़ रूम ने इस क्रांतिकारी तकनीक के बारे में और जानने के लिए सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स के विजुअल डिस्प्ले बिजनेस के पिक्चर क्वालिटी सॉल्यूशन लैब की टीम का साक्षात्कार लिया.

 

इष्टतम अपस्केलिंग के लिए डीप लर्निंग का उपयोग

 

जब कम-रिजॉल्यूशन वाला वीडियो उच्च-रिजॉल्यूशन डिस्प्ले पर चलता है, तो परिणामी तस्वीर की गुणवत्ता दर्शक की अपेक्षाओं से कम हो सकती है.  एआई (कृत्रिम बुद्धिमत्ता) अपस्केलिंग एक ऐसी तकनीक है जो कम-रिजॉल्यूशन वाले वीडियो का डाटा विश्लेषण कर और इसे समझदारी के साथ अपना कर अधिक स्पष्ट और स्वाभाविक रिजॉल्यूशन वाले वीडियो में परिवर्तित करती है.

  यूपी में भाजपा नेता के परिजन की हत्या की साजिश, दो शूटर गिरफ्तार

 

2018 में सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स ने पहली बार अपनी मशीन लर्निंग-आधारित एआई 8K अपस्केलिंग प्रौद्योगिकी को लागू किया.  यह तकनीक मशीन लर्निंग का उपयोग करती है, जिसमें इंसानों द्वारा डिज़ाइन किया गया एल्गोरिदम समझदारी पूर्वक लाइन, लाइट और कलर सहित विभिन्न वीडियो विशेषताओं का विश्लेषण करता है, और बेहतर प्रदर्शन रिजॉल्यूशन के लिए इनमें से प्रत्येक का सुधार करता है. इस तरह की डीप लर्निंग की क्षमता एक टीवी को प्रोसेस वीडियो फीचर्स का विश्लेषण करने की क्षमता प्रदान करती है जबकि मानव मस्तिष्क के समान कार्य करने वाले एक कृत्रिम तंत्रिका नेटवर्क की वजह से इसके सीखने की प्रक्रिया भी साथ-साथ चलती रहती है.

 

सैमसंग के पिक्चर क्वालिटी सॉल्यूशन लैब के सदस्यों ने गहन शिक्षण वाले एल्गोरिदम विकसित करने पर ध्यान केंद्रित किया जो डिस्प्ले को मानव हस्तक्षेप के बिना भी इष्टतम वीडियो गुणों को प्रदर्शित करने में सक्षम बनाता है.  अपस्केलिंग टेक्नोलॉजी का टेक्सचर जेनरेशन तरीका विकसित करने वाले ह्युंगजुन लिम ने कहा, ” डीप लर्निंग से तस्वीर की गुणवत्ता में सिर्फ मानव के बजाए अधिक सटीक और कुशल सुधार किए जा सकते है.”

 

 

इस ऑपरेशनल लाभ ने टीम को एआई अपस्केलिंग तकनीक विकसित करने के लिए प्रेरित किया, जो मशीन लर्निंग को डीप लर्निंग के साथ जोड़ती है – सैमसंग का एआई क्वांटम प्रोसेसर्स 8K.  एआई क्वांटम प्रोसेसर 8K के लिए विस्तारित एज शार्पनेस विकसित करने वाले ह्युन सुंग ली ने कहा, “पुरानी मशीन लर्निंग टेक्नोलॉजी डिस्प्ले पिक्चर की क्वालिटी में एक व्यापक तीक्ष्णता लेकर आई, लेकिन अब हमारी टेक्नोलॉजी ज्यादा बारीक टेक्सचरिंग भी कर सकती है. उन्होंने कहा, “पहाड़ या घास के परिदृश्य वाली जटिल बनावट की छवियां अब स्वाभाविक रूप से 8K गुणवत्ता में परिवर्तित की जा सकती हैं.”

  करीब तीन वर्षों में तैयार हो जायेगा भव्य राम मंदिर-विहिप

 

डीप लर्निंग की पहेली को हल करना

 

हालाँकि डीप लर्निंग की क्षमता असीम है, फिर भी कुछ बाधाओं को दूर करना अभी बाकी है.  पिक्चर क्वालिटी सॉल्यूशन लैब टीम को अपनी तकनीक को बाजार के लिए तैयार करने से पहले अनगिनत परीक्षणों और त्रुटि परिदृश्यों से गुजरना पड़ा.  एआई क्वांटम प्रोसेसर 8K का नेटवर्क स्ट्रक्चर और सीखने की विधि विकसित करने वाले चीयॉन ली ने कहा, “शुरुआत में हमारे लिए प्रोसेसर के कृत्रिम तंत्रिका नेटवर्क द्वारा विकसित किए जा रहे एल्गोरिथ्म का स्पष्ट रूप से अनुसरण और अनुपालन कर पाना कठिन था. इसके अलावा कृत्रिम तंत्रिका नेटवर्क की हार्डवेयर चिप द्वारा बिजली की बहुत खपत भी एक समस्या थी, जिसे हमें हल करना था.”

 

एक लंबी विकास प्रक्रिया के बाद सैमसंग आखिरकार अपने पास मौजूद अलग-अलग तरह की टेक्नोलॉजी की शृंखलाओं के बूते उन समस्याओं को हल करने में सफल हुआ जो उठ खड़े हुए थे. “हमने अपने प्रोसेसर को एक हाइब्रिड टेक्नोलॉजी बनाकर इससे उच्च क्षमता वाला डिस्प्ले क्वालिटी प्रदर्शन हासिल कर लिया, जो डीप लर्निंग और मशीन लर्निंग के विभिन्न पहलुओं को उनकी जटिलता के साथ जोड़ती है,” ली ने समझाया.

 

एआई के साथ ज्यादा बड़े, बेहतर और ज्यादा वास्तविक सपने देखना

 

बहुत पुरानी बात नहीं है जब हमारे लिए एआई-संचालित टेक्नोलॉजी का रोजाना के कार्यकलापों में इस्तेमाल एक दूर का सपना था.  आजकल, रोजमर्रा की जिंदगी के कई अलग-अलग क्षेत्रों में लोगों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए तकनीक में तेजी से सुधार हुआ है.

  उपराष्ट्रपति वैंकेया ने सुषमा स्वराज को यादकर कहा, आज आपको बहुत मिस कर रहा हूं

 

 

“हम अब अलग-अलग गुणवत्ता स्तरों वाले वीडियो को और विस्तृत तरीके से वर्गीकृत करने में सक्षम हैं, और साथ ही इन एआई वर्गीकरण तकनीकों को कमर्शियल बाजार में भी ला रहे हैं,” एआई क्वांटम प्रोसेसर 8K के शोर उन्मूलन और डिटेल कॉन्ट्रास्ट रेंज को सुधारने पर काम करने वाले सियोंगहो पार्क ने बताया. उन्होंने कहा, “इस तरह की प्रौद्योगिकियां अगली पीढ़ी के डिस्प्ले, जैसे कि द वॉल, के लिए रास्ता साफ करती हैं, जो आज के दौर में सभी प्रकार के वीडियो को अधिकतम संभव स्वाभाविकता के साथ दिखाने में सक्षम हैं.”

 

यह एआई-संचालित इन्नोवेशन केवल अपस्केलिंग टेक्नोलॉजी तक सीमित नहीं है. डिस्प्ले की स्क्रीन गुणवत्ता को बेहतर बनाने के लिए एआई का उपयोग करने के कई तरीके मौजूद हैं, जिनमें वीडियो का गुणवत्ता वर्गीकरण, शोर उन्मूलन, डेटा के कम्प्रेशन के कारण पैदा होने वाली विकृति को ठीक करना, और स्थानिक या समय-आधारित रिजॉल्यूशन बहाली इत्यादि कुछ नाम हैं. “हमारा लक्ष्य एआई टेक्नोलॉजी के साथ अगली पीढ़ी के डिस्प्ले के लाभों को मिलाकर टीवी देखने का बेहतरीन अनुभव प्रदान करते हुए सैमसंग की विरासत को जारी रखना है, जो वीडियो को वास्तविक स्तर की गुणवत्ता दे सकें, भले ही वे मौलिक रूप से किसी भी गुणवत्ता या रिजॉल्यूशन के हों,” पार्क ने पुष्टि की.  QLED 8K का भविष्य उज्ज्वल दिख रहा है.

 

Please share this news