चीन के साथ सीमा पर तनाव पर ट्रम्प का भारत को समर्थन सुनिश्चित नहीं : जॉन बोल्टन


वॉशिंगटन . अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन ने आशंका जताई है कि यदि चीन-भारत सीमा तनाव बढ़ता है कि तो इसकी कोई गारंटी नहीं कि राष्ट्रपति ट्रंप चीन के खिलाफ भारत का समर्थन करेंगे.

बोल्टन ने एक टेलीविजन चैनल से बातचीत में कहा कि चीन अपनी सभी सीमाओं पर आक्रामक तरीके से व्यवहार कर रहा है, निश्चित तौर पर पूर्वी और दक्षिण चीन सागर में भी तथा जापान, भारत और अन्य देशों के साथ उसके संबंध खराब हुए हैं. यह पूछे जाने पर कि ट्रंप चीन के खिलाफ भारत का किस हद तक समर्थन करने के लिए तैयार हैं, उन्होंने कहा कि मुझे नहीं पता कि वह क्या निर्णय लेंगे और मुझे नहीं लगता कि उन्हें भी इस बारे में पता है. मुझे लगता है कि वह चीन के साथ भू-रणनीतिक संबंध देखते हैं, उदाहरण के लिए, विशेष रूप से व्यापार के चश्मे से.

  थिक वेब स्विच की मदद से ट्रेनों की स्पीड बढ़कर होगी 130 किमी प्रति घंटा

उन्होंने कहा कि मुझे नहीं पता कि ट्रंप नवंबर के चुनाव के बाद क्या करेंगे…वह बड़े चीन व्यापार समझौते पर वापस आएंगे. यदि भारत और चीन के बीच चीजें तनावपूर्ण बनती हैं तो मुझे नहीं पता कि वह किसका समर्थन करेंगे. यह पूछे जाने पर कि क्या वह मानते हैं कि यदि भारत और चीन के बीच तनाव बढ़ता है तो इसकी कोई गारंटी नहीं कि ट्रंप चीन के खिलाफ भारत का समर्थन करेंगे, बोल्टन ने कहा कि हां यह सही है.

  फ्री में कोरोना टेस्ट वाले मैसेज-मेल से बचने की सलाह, नहीं तो बैंक अकाउंट हो जाएगा खाली

बोल्टन ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि ट्रंप को भारत और चीन के बीच दशकों के दौरान हुई झड़पों के इतिहास की कोई जानकारी है. बोल्टन ने कहा कि हो सकता है कि ट्रंप को इस बारे में जानकारी दी गई हो, लेकिन वह इतिहास को लेकर सहज नहीं हैं. बोल्टन ट्रंप प्रशासन में अप्रैल 2018 से सितम्बर 2019 तक अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार थे.

Please share this news