कोरोना के डर से ताफ्तान नहीं जाने वाले 44 डॉक्‍टरों को निलंबित किया


इस्‍लामाबाद . पाकिस्‍तान इस समय कोरोना की चपेट में है. कोरोना संक्रमण के मामले लगातार सामने आ रहे हैं. ऐसे में 44 डॉक्‍टरों ने ताफ्तान जाने से इंकार कर दिया है. डॉक्‍टरों के जाने से मना करने के बाद उन्‍हें निलंबित कर दिया गया है. मामला ब्‍लूचिस्‍तान का है, जहां बलूचिस्तान सरकार (Government) के प्रवक्‍ता ने बताया कि ताफ्तान जाने से इंकार पर इन डॉक्टरों (Doctors) को निलंबित कर दिया गया है. वहीं सरकार (Government) की ओर से मीर अमीर मुहम्मद हुसनी ने कहा कि ‘सरकारी आदेशों की अवहेलना करने के लिए 12 डॉक्टर (doctor) पहले भी निलंबित किए गए हैं.

  अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा ने प्रताप जयंती की पूर्व संध्या पर ऑनलाइन काव्य गोष्ठी

उन्‍होंने कहा कि ताफ्तान को पाकिस्‍तान का वुहान कहना गलत है. उन्‍होंने आगे कहा कि कोरोना के संक्रमण के मद्देनजर ताफ्तान में 600 लोगों के ठहरने के लिए कंटेनर सिटी बनाई जा रही है और इसमें उनकी सहूलियत का ख्‍याल रखते हुए सभी सुविधाएं दी जा रही हैं. उन्‍होंने आगे कहा कि ‘ताफ्तान में यह सराहनीय कदम उठाने पर हमारी सराहना करने के बजाय हमारी आलोचना की गई.

  68 देशों में टीकाकरण में बांधा की आशंका, 8 करोड़ बच्चों पर मंडराया एक और खतरा

गौरतलब है कि ताफ्तान ईरान से लगी सरहद पर है और इसी से होकर ईरान से जायरीन आते रहे हैं. वहीं पाकिस्‍तान की सरकार (Government) की ओर से यह भी कहा जाता रहा है कि उनके देश में कोरोना (Corona virus) ईरान से आने वाले जायरीन की वजह से आया और देश में ज्‍यादातर केस इसी की वजह से सामने आ रहे हैं. ऐसे में लोग ताफ्तान जाने से बचते रहे हैं. इसे चीन के वुहान की तरह समझा जाने लगा है, जहां सबसे पहले कोरोना फैला था.

Please share this news