कॉलेज छात्र की संदिग्ध मौत के मामले में परिवार वालो ने लगाये पुलिस पर लापरवाही के आरोप

भोपाल (Bhopal) . राजधानी की ऐशबाग पुलिस (Police) पर युवक की संदिग्ध हालातों में मौत के मामले में जांच मे लापरवाही बरतने के आरोप लगे हैं. जबकि परिजनों ने इस मामले में हत्या (Murder) की आशंका जाहिर की है. मृतक बरकतुल्ला यूनीवर्सिटी से एम.ए की पढ़ाई कर रहा था, जो सदिंग्ध हालातों में लापता हो गया था, वही गायब होने से कुछ घंटो पहले उसने अपने एक दोस्त की लव मैरिज आर्य समाज मंदिर में कराई थी. 16 दिन लापता रहने के बाद उसकी लाश रेलवे (Railway)ट्रेक पर मिली थी. वहीं पुलिस (Police) का कहना है कि मृतक का बिसरा परीक्षण के लिए भेजा गया है, जिसकी रिपोर्ट आने के बाद आगे की जांच की दिशा तय की जाएगी. जानकारी के अनुसार सोनू चिराण पिता इंद्रपाल चिराण (22) फूटी बावड़ी के पास पुष्पा नगर थाना बजरिया का निवासी था. वह बी.यू से एमए की पढ़ाई कर रहा था. उसके पिता इलेक्ट्रीशियन हैं. जबकि मां घरों में काम करती हैं. मृतका का 17 वर्षीय छोटा भाई स्कूल में पढ़ाई करता है.

  रेलवे ट्रैक पर मिली युवक की लाश

पिता इंद्रपाल ने बताया कि सोनू आईटीआई भी किया हुआ था और पढ़ाई में होशियार था. 13 जनवरी 2020 को वह घर से बिन बताए लापता हुआ था. 29 जनवरी को उसकी बॉडी थाना ऐशबाग के पास में स्थित रेलवे (Railway)ट्रेक किनारे एक नाली में मिली थी. उसके गले पर कुछ निशान दिखाई दे रहे थे. जिससे उन्हें संदेह है कि हत्या (Murder) करने के बाद उसकी बॉडी को फैंका गया है. 14 जनवरी को उसकी गुमशुदगी दर्ज करा दी गई थी. अब तक की जांच में पुलिस (Police) यह भी पता नहीं लगा सकी है कि गुमशुदगी के दौरान सोनू कहां और किसके साथ रहा था. जब बॉडी बरामद की गई तब शव पांच से छह दिन पुराना होना लग रहा था. शार्ट पीएम में भी इस बात की पुष्टी हुई है. इस बात का जवाब भी पुलिस (Police) नहीं दे रही है कि मौत के दस दिन तक वह कहां और कैसे रहा. इंद्रपाल का कहना है कि उसने 13 जनवरी को अंकित नाम के दोस्त की शादी कराई थी. जिसका कन्यादान भी उसी ने किया था. इसके बाद से ही वह रहस्यमय हालातों में लापता हो गया. उन्हें पूरा संदेह है कि हत्या (Murder) करने के बाद उनके बेटे के शव को फैंका गया है.

  शादी से मना किया तो कर डाली माता-पिता की हत्या

इंसाफ के लिए वह डीजीपी, गृह मंत्री,आईजी, डीआईजी सहित भोपाल (Bhopal) पुलिस (Police) के तमाम अधिकारियों को शिकायती आवेदन दे चुके हैं. वही जांच कर रही पुलिस (Police) टीम का कहना है कि मृतक का शव मिलने के कुछ दिन पूर्व उसने फेसबुक पर स्टेट्स अपलोड किए थे. जिसमें उसने लिखा था, मम्मी पापा मेरे बगैर जीना सीख लेना,जिंदगी बहुत प्यारी है, पर मैं जीना नहीं चाहता. इसी के साथ उसने अंकित नाम के दोस्त से 17 मिनट तक फोन पर बात की थी. पूरी बातचीत में वह जान देने की बात कर रहा था. जिसकी रिकार्डिंग अंकित ने पुलिस (Police) को सौंपी है. शार्ट पीएम में मौत का कारण संदिग्ध जहर खाने से आया है. सोनू के बिसरा सेंपल जांच के लिए भेजे गए हैं. जिसकी रिर्पौट आने के बाद ही आगे की कार्चाही की जायेगी.

Please share this news