कम्प्यूटर दुकान पर बनाए जा रहे थे नकली अनुमति पत्र, होशंगाबाद जिले के माखन नगर का मामला


भोपाल (Bhopal) ( ). प्रदेश के होशंगाबाद जिले के माखन नगर में कम्प्यूटर दुकान नकली अनुमति पत्र बनाने का मामला प्रकाश में आया है. यहां से तहसीलदार निधी चौकसे को फोन पर जानकारी मिली कि कम्प्यूटर दुकान पर नकली अनुमति पत्र बनाए जा रहे हैं. तहसीलदार चौकसे, नायब तहसीलदार अतुल श्रीवास्तव, आरआई मंडलोई, असरफ खान की टीम ने कम्प्यूटर दुकानदार नारायण यादव को बुलाकर दुकान खुलवाई.

जिसकी तलाशी में आवागमन का एक निर्धारित प्रारूप जिसमें नायब तहसीलदार अतुल श्रीवास्तव के हस्ताक्षर की फोटोकॉपी प्रारूप पर चिपकाकर फोटोकॉपी कर अवैध रूप से अनुमति दिए जाने का काम किया जा रहा था. इस तरह के तीन आवेदन अनुमति पत्र, लोक सेवा केन्द्र की सील, जन्म-मृत्यु, उप रजिस्टार की पंजीयन सील, तीन लोगों के हस्ताक्षर युक्त ब्लेंक चेक, कक्षा 8 की प्री एनुअल परीक्षा 2020 का अंग्रेजी विषय के प्रश्नपत्र की फोटोकॉपी, भारत निर्वाचन आयोग का पहचान पत्र बनाने हेतु सीट सहित स्टीकर, वोटर आईडी, करार नामा सहित अन्य जब्त किए गए.

  यूपी में आये कोविड-19 संक्रमण के 273 नये मामले

दुकानदार यादव का गिरफ्तार करके दुकान सील कर दी है. यह कम्प्यूटर दुकान तहसील, जनपद व नगर परिषद कार्यालयों के मध्य होशंगाबाद-पिपरिया मार्ग पर स्थित है. उधर न्यायालय के आदेश पर यहां होशंगाबाद केंद्रीय जेल में बंद 42 कैदियों को बुधवार (Wednesday) रात को 45 दिन के लिए जमानत पर रिहा किया गया. कल रात जिन 42 कैदियों को छोड़ा गया है उनके आने-जाने की व्यवस्था नहीं होने के कारण वे कैदी जेल के पास ही एक मंदिर परिसर में रात में रुके हैं. गुरुवार (Thursday) को सुबह कई कैदी चले गए.जेल अधीक्षक ऊषा राज का कहना है कि संबंधित थानों को जानकारी भेज दी गई है.

Please share this news