अब फेबिफ्लू की कीमत 75 रुपए, कोरोना के इलाज में होती है इस्तेमाल


नई दिल्ली (New Delhi) . देश में कोरोना मरीजों के इलाज में इस्तेमाल हो रही हेवी पावर दवा फेबीफ्लू की कीमतों में 27 फीसदी की कटौती कर दी गई है. दवा कंपनी ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स ने एंटीवायरल दवा की कीमतों में कटौती करने का फैसला किया है. अब मरीजों को ये गोली 75 रुपये की कीमत पर मिलेगी. दवा कंपनी ने पिछले महीने इस दवा को लॉन्च किया था और इसकी कीमत 103 रुपये रखी गई थी. कंपनी का कहना है कि दवा की कीमत में इसलिए कटौती की गई है क्योंकि बड़े पैमाने पर इसकी बिक्री और मुनाफा हो रहा है. ये दवा पूरे तरीके से भारत में तैयार की गई है. दवा कंपनी ग्लेनमार्क का कहना है कि ये दवा दूसरे देशों के मुकाबले भारत में सस्ती दरों पर बेची जा रही है.

  देश में सबसे अच्छा हो राजस्थान का पीडीएस सिस्टम : मुख्यमंत्री

कंपनी के बिजनेस प्रमुख आलोक मलिक का कहना है कि दवा की कीमत होने से इस बात की उम्मीद लगाई जा रही है कि पूरे देश में कोविड-19 (Covid-19) मरीजों को इससे लाभ मिलेगा. बता दें कि यही दवा रूस में 600 रुपये, जापान में 378 रुपये, बांग्लादेश में 350 रुपये और चीन में 215 रुपये प्रति टैबलेट के औसत पर बेची जा रही है. आलोक मलिक का कहना है कि कंपनी ने दवा के असर को परखने के लिए एक हजार मरीजों पर इसका अध्ययन किया है. इस अध्ययन से दवा के असर के बारे में और बेहतर जानकारी सामने आएगी. कंपनी ने मध्यम से औसत मरीजों पर दवा की तीसरे चरण का ट्रायल पूरा कर लिया है, जिसका परिणाम जल्द आ जाएगा. कंपनी ने बताया कि इसके अलावा दो और एंटीवायरल दवाओं फेवीपिराविर और उमीफेनाविर दवा का एक साथ मरीजों पर तीसरे चरण का ट्रायल किया जा रहा है.

Please share this news