परिंदों का रंगीन संसार: डूंगरपुर बर्डफेयर 12 व 13 को

डूंगरपुर। प्राकृतिक संपदा से देश-प्रदेश को रूबरू कराने के उद्देश्य से जिला प्रशासन द्वारा लगातार चौथे साल वृहद स्तर पर आयोजित हो रहा ‘डूंगरपुर बर्डफेयर 2016’ इस बार 12 व 13 जनवरी को धूमधाम से आयोजित किया जाएगा। इस मेले के लिए नौनिहालों को जहां परिंदों की रंगीन दुनिया से रूबरू करवाया जाएगा वहीं इस दौरान आयोजित होने वाली विभिन्न गतिविधियों का बड़ा आकर्षण रहेगा।

जिला कलक्टर सुरेन्द्र कुमार सोलंकी ने बताया कि ‘डूंगरपुर बर्डफेयर 2016’ शहर की शान गेपसागर झील के पूर्वी छोर शिवपुरा गांव में झील तट पर आयोजित किया जाएगा। बर्डफेयर का पहले दिन देश-प्रदेश के 15 12 जनवरी पूर्णतया बर्डवॉचिंग को समर्पित होगा। इस दौरान सुबह 8 बजे से जिला मुख्यालय के विभिन्न निजी व सरकारी विद्यालयों के 800 से अधिक विद्यार्थियों को बर्डवॉचिंग कराई जाएगी।  बर्डवॉचिंग के लिए प्रदेश के भरतपुर के ख्यातनाम पक्षी विशेषज्ञ डॉ. एस.पी.मेहरा के नेतृत्व में  अजमेर, कोटा, उदयपुर, झुंझनु आदि शहरों से 15 ख्यातनाम बर्ड एक्सपटर््स को आमंत्रित किया गया है। इन एक्सपटर््स की डूंगरपुर पहुंचने की सहमति प्राप्त हो चुकी है और ये सभी एक्सपटर््स 11 जनवरी को शाम को ही डूंगरपुर पहुंच रहे हैं। बर्डवॉचिंग के तहत इस कार्यक्रम के लिए विशेष रूप से गत वर्षों में भामाशाहों के सहयोग से खरीदे गए बायनाकूलर्स और स्पोटिंग स्कॉप की मदद ली जाएगी जिनके माध्यम से विशेषज्ञ विद्यार्थियों को रंग-बिरंगे पक्षियों और उनकी जलक्रीड़ाओं को दिखाते हुए उनकी विशेषताओं के बारे में बताएंगे।

बच्चों को लुभाएंगे परिंदों के रंगीन टेटू: बर्डफेयर के पहले दिन बर्डवॉचिंग स्थल पर ही पक्षियों से संबंधित क्विज और पेंटिंग प्रतियोगिता का भी आयोजन किया जाएगा वहीं टेटू के प्रति बच्चों के आकर्षण को देखते हुए बर्डफेयर के तहत बच्चों के चेहरों पर पक्षियों के टेटू उकेरते हुए फेस पेंटिंग एक्टिविटी भी करवाई जाएगी। गत वर्षों की भांति ही  इस फेस पेंटिंग के तहत बच्चों के चेहरों और हाथों पर आकर्षक रंगों में पक्षियों के चित्र उकेरे जाएंगे। इसके लिए उदयपुर के चित्रकार  निर्मल यादव के नेतृत्व में पांच आर्टिस्ट का एक दल 11 जनवरी को डूंगरपुर पहुंचेगा।

कार्यशाला में होगी परिंदों व पर्यावरण पर चर्चा:  जिला कलक्टर सोलंकी ने बताया कि बड़ी संख्या में पक्षी विशेषज्ञों व र्प्यावरण चिंतकों की मौजूदगी को देखते हुए 13 जनवरी को दोपहर 12 बजे से जिला परिषद के ईडीपी सभागार में पक्षियों व पर्यावरण पर आधारित एक कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा। इस कार्यशाला में देश-प्रदेश से आने वाले पक्षी विशेषज्ञ और पर्यावरण चिंतकों द्वारा जिले की नैसर्गिक विरासत और परिंदों की स्थितियों तथा इससे पर्यटन विकास की संभावनाओं पर विस्तृत चर्चा की जाएगी। इस कार्यशाला में भरपुर के पक्षी विशेषज्ञ डॉ. एस.पी.मेहरा, अजमेर के डॉ. विवेक शर्मा, कोटा के डॉ. कृष्णेन्द्रसिंह नामा तथा झूंझनु के डॉ. दाउलाल बोहरा सहित अन्य विशेषज्ञों द्वारा पक्षियों और पर्यावरण संबंधित विविध विषयों पर वार्ताओं की प्रस्तुति दी जाएगी।

loading...
Share